बिहार में ये कंपनियां करेगी 900 करोड़ का निवेश, मिलेगा रोजगार

0
708

बिहार में रोजगार को लेकर कई तरह की बातें कही जाती है. economic development of bihar न होने के पिछे की तरह के कारण गिनाये जाते हैं उसमें एक कारण यह भी है कि बिहार में कोई कल कारखाने नहीं है जिससे कि प्रदेश में लोगों को रोजगार मिल सके और यहां पर दूसरे जगह के लोग आकर आपना रोजगार विकसित कर सके. हालांकि इन सब के पिछे राजनीतिक पार्टियों की तरफ से अलग अलग बयान सामने आते रहे हैं. उद्योग को बिहार में लगाने के पीछे जो तर्क दिया जा रहा है कि उसमें यही कहा जाता रहा है कि बिहार में उस तरह का माहौल नहीं है की किसी तरह के उद्योग को खड़ा किया जा सके. ऐसे में बिहार सरकार ने पिछले कुछ सालों में रोजगार को लेकर बेहतर काम किया है. खासकर कल कारखानों को लेकर बेहतर काम किया है. बिहार में एक समय में चीनी की मिले थी आज भी है लेकिन पहेल जैसी स्थिति में नहीं है. कई और उद्योग था जिसका जिक्र आज विपक्ष के कई नेता करते हैं. बिहार के इतिहास के पन्नों को पलटेंगे तो आपको Mr. Krishna Singh का नाम सामने आएगा जिनके मुख्यमंत्री काल खंड में बिहार में उद्योग अपने सबसे बेहतर स्थिति में था. यहां रोजगार के साधन थे यहां कल कारखाने थे और यहां के लोगों में खुशहाली थी लेकिन समय के साथ चीजे बदल जाती है इसमें भी बदलाव हो गया अब एक बार फिर से बिहार में उद्योग लगाने को लेर जोर दिया जा रहा है.

बिहार में उद्योग को लेकर अब लोगों का मन बदला है. यहां सिमेंट से लेकर पेय पदार्थ बनाने वाली कंपनियां अपनी युनिट लगा चुकी है. कई क्षेत्रों में यह काम भी कर रही है. इसी कड़ी में पिछले दिनों Investors Meet in Kolkata में बिहार को Textile, Logistics, Cement समेत कई सेक्टर में निवेश का प्रस्ताव मिला है. आपको बता दें कि कंवेंटर्स एग्रो ने 600 करोड़ तो वहीं JIS GROUP में 300 करोड़ के निवेश की बात कही है. Mayank Agarwal, chairman of Kventor Agro ने अपनी बात रखते हुए कहा कि एक इंवेस्टर को हमेशा दो चीजें चाहिए. एक निवेश की सुरक्षा और दूसरा ग्रोथ की संभावना. आज बिहार में दोनों चीजें उपलब्ध हैं. Bihar Industrial Policy भी भविष्य को देखकर बनाई गई है और प्रोत्साहित करने वाली है. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि बिहार में गुड गर्वनेंस हैं. हमारी कंपनी बिहार में लॉजिस्टिक सेक्ट में करीब 600 करोड़ का निवेश करेगा.

वहीं JIS ग्रुप के ज्वाइंट मैनेजिंग डायरेक्टर हरनजीत सिंह ने कहा है कि लॉजिस्टिक्स सेक्टर में उनकी कंपनी 300 करोड़ का निवेश करेगी. इधर टीटी लिमिटेड के एमडी संजय कुमार जैन ने बताया कि वे बिहार में निवेश करेंगे. और एक साल के भीत यहां उत्पादन भी शुरू कर देंगे. इसके बाद बिहार के उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने अपनी बात रखते हुए उद्योगपतियों और कंपनी के प्रतिनिधियों को कहा है कि बंगाल और बिहार का पुराना नाता और लगाव रहा है. उन्होंने कहा कि बंगाल के लोग बिहार को अपना दूसरा घर समझें, उन्होंने कहा कि आप बिहार में नई औद्योगिक ईकाइयों को स्थापित कर सकते हैं या फिर अपने उद्योग का विस्तार दे सकते हैं.

इस दौरान बोलते हुए शानहवाज हुसैन ने भरोसा दिया है कि हम खुद चलकर उद्योगपतियों के दरवाजे तक जा रहे हैं. और हम जो कहेंगे, वो करेंगे. बिहार में निवेश किसी हाल में उनके लिए घाटे का सौदा नहीं होगा. मंत्री ने साफ तौर पर कहा कि बिहार में उद्योंगों की संथ्यान के लिए 2900 एकड़ का लैंड बैंक है. 73 औद्योगिक क्षेत्र पूरी सुविधा के साथ तैयार हैं. साथ ही यह भी बताया कि बिहार में 7 एयरपोर्ट हैं जिससे की कनेक्टिविटी में किसी तरह की कोई परेशानी नहीं होगी. ऐसे में अब उम्मीद करते हैं कि आने वाले दिनों में बिहार में रोजगार को बढ़ावा मिले जिससे कि प्रदेश के लोगों को अपने घर में ही रोजगार मिल सके.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here