कभी स्कूल से निकाल दिए गए थे Ishan Kishan

0
302

बिहार के ईशान किशन का आखिरकार टीम इंडिया में चयन हो गया. ईशान पर बचपन से क्रिकेट का जूनुन इस कदर हावी था कि उन्हें इस कारण स्कूल से बाहर कर दिया गया था. शनिवार को उसी किशन ने इंग्लैंड के खिलाफ भारतीय टी-20 टीम में शामिल हो अपनी टीम झारखंड और अपने राज्य बिहार का गौरव बढ़ाया है. बीते शनिवार को विजय हजारे ट्रॉफी में तूफानी शतक ठोकने वाले ईशान की इस कामयाबी से उनके माता पिता और परिवार वाले फूले नहीं समा रहे हैं. ईशान के माता पिता ने एक प्रतिष्ठित अख़बार को बताया कि भगवान का आशीर्वाद और ईशान की मेहनत रंग लाई है. मां ने कहा कि मैं छठ पूजा करती हूं और मुझे भगवान में काफी विश्वास है. 2016 में छठ के तुरंत बाद वह अंडर-19 विश्व कप के लिए भारतीय टीम का कप्तान बना था. आज वह भारत की सीनियर टीम में शामिल हो गया है. छठ मइया की कृपा उसपर इसी तरह बनी रहे.

वहीं ईशान के पिता प्रणव पांडेय ने कहा कि ईशान शुरू से ही पढ़ाई में कमजोर था. क्रिकेट के कारण वह अपने स्कूल डीपीएस से हमेशा गायब रहता था. इसी कारण नौवीं क्लास में उसे स्कूल से बाहर कर दिया गया था. जैसेतैसे कर दानापुर के एक स्कूल से उसने दसवीं की परीक्षा पास की. इस दौरान संतोष कुमार और उत्तम मजुमदार जैसे कोच ने उसे तराशा. बड़े भाई राज किशन की भी इसमें अहम भूमिका रही जिसने ईशान को क्रिकेटर बनाने के लिए अपने क्रिकेट करियर को त्याग दिया था.

हालांकि उस वक्त बिहार में क्रिकेट को लेकर माहौल अनुकूल नहीं रहने के वजह से इशान किशन ने 2011 में झारखंड के तरफ रुख किया. 2014 में ईस्ट जोन में वह टॉप स्कोरर बना था. इसके बाद 2016 में बांग्लादेश में हुए अंडर-19 विश्व कप में उन्हें भारतीय टीम की कमान सौंप दी गई. फिर रणजी, देवधर, दिलीप और ईरानी ट्रॉफी में ईशान ने बहुत अच्छा प्रदर्शन किया. पिछले साल आईपीएल में वो चैंपियन मुंबई इंडियंस की ओर से सर्वश्रेष्ठ स्कोरर रहे थे. ईशान किशन के पिता ने यह भी बताए कि बीते दिनों विजय हजारे ट्रॉफी में जब ईशान ने तूफानी शतक जड़ा तो उन्हें विश्वास हो गया कि अब मंजिल दूर नहीं. शाम होते टीम इंडिया में शामिल होने की खबर ईशान से ही मिली, जिसका सालों से इंतजार था. उन्होंने कहा कि मुझे पूरा विश्वास है कि वह एक दिन भारत के टेस्ट और वनडे टीम का भी हिस्सा बनेगा.

वहीं इंग्लैंड के खिलाफ टी 20 सीरीज के लिए टीम इंडिया में चयनित होने के बाद ईशान किशन ने कहा कि मेरी कामयाबी में राजेंद्र नगर शाखा मैदान, मेरे परिवार, कोच और मेरी मेहनत की अहम भूमिका रही है. उन्होंने यह भी कहा कि इंग्लैड के खिलाफ टी-20 सीरीज और इसके बाद आईपीएल में बढ़िया प्रदर्शन करना मेरा लक्ष्य है. इसके बाद टी-20 विश्व कप टीम में शामिल होने के लिए जमकर मेहनत करूंगा. आपको बता दें कि पिछले साल यूएइ में संपन्न हुए इंडियन प्रीमियम लीग में बिहार के स्टार क्रिकेटर ईशान किशन ने बेहतरीन प्रदर्शन किया था. उन्होंने आईपीएल के 14 मैचों में 57.33 के औसत से 516 रन बनाए थे और सर्वाधिक 30 छक्के भी लगाए थे. बताते चलें कि ईशान किशन बिहार के ही रहने वाले हैं लेकिन झारखण्ड के लिए खेलते हैं. पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और ऑस्ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर एडम गिलक्रिस्ट ईशान के आदर्श खिलाड़ी हैं. अपनी मेहनत के दम पर ईशान ने बहुत ही कम उम्र में क्रिकेट की दुनिया में बेहतरीन नाम कमा लिया है. और अब उनका चयन भारतीय सीनियर टीम में भी हो गया है. आज ईशान बिहार के युवा खिलाड़ियों के लिए आदर्श बन चुके हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here