जदयू उम्मीदवार अजय सिंह को मिली करारी शिकस्त, 27 हजार वोटों से हारे

0
527

पाँच विधानसभा और एक लोकसभा सीट पर चुनाव हुए थे उस मतदान की गणना सवेरे से की जा रही थी। बिहार के सिवान(Sivan) जिले में दरौंदा विधानसभा क्षेत्र से निर्दलीय प्रत्याशी कर्णजीत सिंह(Karnjit Sinh) ऊर्फ व्यास सिंह (Vyas Sinh) भारी मतों से जीत चुके हैं. उन्होंने यहाँ जदयू के अजय कुमार सिंह (Ajay Kumar Sinh) और राजद (RJD) के उमेश सिंह (Umesh Sinh) को हराया है. करण जीत सिंह उर्फ व्यास सिंह 27312 मतों से जेडीयू प्रत्याशी अजय कुमार सिंह को शिकस्त दी है. करणजीत सिंह को जेडीयू विधायक श्याम बहादुर सिंह और पूर्व सांसद ओमप्रकाश यादव बधाई देने पहुंचें हैं.

कर्णजीत सिंह जाति से राजपूत हैं। पूर्व में वे भाजपा पार्टी में शामिल थे और भाजपा के जिला उपाध्यक्ष थे. इस बार वे एनडीए के तरफ से टिकट के दम पर दरौंदा विधानसभा के चुनावी मैदान में उतरने वाले थे लेकिन अंतिम समय में एनडीए की तरफ से टिकट अजय सिंह को मिल जाने के बाद वे निर्दलीय से चुनाव लड़ने का फैसला ले लिया।

बात अगर दरौंदा विधानसभा में चुनाव कर्णजीत सिंह के जीत की करें तो उनके लिए यह जीत हासिल कर पाना कठिन मालूम पड़ रहा था हालाँकि सिवान के पूर्व सांसद ओमप्रकाश यादव के द्वारा उन्हें खुला समर्थन प्राप्त हुआ. बता दें कि सिवान से कविता सिंह(Kavita Sinh) के सांसद निर्वाचित हो जाने के बाद ही यह सीट खाली हुई जिसपर यह उपचुनाव होना था.

कविता सिंह के परिवार का सिवान की राजनीति में दरौंदा विधानसभा सीट पर कब्ज़ा रहा है. इनके पूर्व 2010 में इनकी सास जगमातो देवी (Jagmata Devi) विधायक रही थीं. उनके देहांत हो जाने के बाद खाली हुए सीट पर ही वर्ष 2011 में कविता सिंह जीत गईं थी. पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा के जितेंद्र स्वामी को कविता सिंह ने शिकस्त दी थी। इस बार उनके ही पति अजय सिंह भी इस विधानसभा में खड़े थे. व्यास सिंह भारी मतों से अजय सिंह को शिकस्त देकर विजयी हो चुके हैं. बता दें कि कर्णजीत सिंह सिवान की राजनीति में अपनी अलग छवि रखने वाले पाल सिंह के परिवार से हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here