सीटों को लेकर एनडीए में रार, जल्द होगा अंतिम निर्णय

0
256

चुनाव आने के पहले तक मिला जुला कर एनडीए और महागठबनधन के बोल एक थे और मौका मिलते ही दोनों एक दूसरे पर हावी हो जाते थे लेकिन अब जब चुनाव सर पर हैं तब एनडीए और महागठबनधन के बीच भिड़ंत कम तो नहीं हुए लेकिन महागठबंधन और एनडीए में सीटों को लेकर युद्ध जरूर मचा हुआ है.

महागठबंधन का दामन छोड़कर जदयू से गले मिलने वाले मांझी भी अपने सीट की मांग जदयू के सामने रख दी थी। भाजपा और जदयू में प्रेमपूर्वक और शांति से सीटों का बंटवारा हो गया लेकिन लोजपा को मन मुताबिक सीट नहीं मिलने के वजह से वह आर या पार करने को तैयार है.

वहीँ महागठबंधन में भी कांग्रेस और राजद के बीच ही अबतक मामला नहीं सुलझा है बस इसी चक्कर में रालोसपा और वीआईपी मुंह ताक रहे हैं.

एनडीए की बात करें तो लोजपा प्रमुख चिराग पासवान के तेवर अब बढ़ता ही जा रहा है और उन्हें रामविलास पासवान का भी साथ मिल गया है. रामविलास पासवान ने साफ कह दिया है कि वे अपने बेटे के हर निर्णय के साथ हियँ।
संसदीय बोर्ड के बैठक में पार्टी नेताओं ने जदयू के खिलाफ में उम्मीदवार की भी मांग कर दी है.

15 सितम्बर को चिराग पासवान बड़ा फैसला ले सकते हैं. चुनावी मैदान में उतरने को लेकर वे विचार करेंगे। जदयू के साथ चल रहे सीट बंटवारे पर भी चिराग कोई बड़ा स्टेप ले सकते हैं. अब तक लोजपा की स्थित साफ नहीं हो सकी है लेकिन पार्टी के तरफ से 143 सीटों पर चुनाव लड़ने का एलान कर दिया है वहीँ एनडीए से अलग होने वाने वाले बात पर भी फ़ाइनल कोई निर्णय नहीं हो सका है.

खबर यह भी आ रही है कि चिराग पासवान ने दिल्ली में भाजपा नेता के संपर्क में हैं और वे जेपी नड्डा से बात कर रहे हैं. जेपी नड्डा के बिहार दौरे पर आने पर अहम बैठक होगी जिसमें एनडीए के सीट बंटवारे को लेकर कोई साफ निर्णय हो सकता है. भाजपा और जदयू के सीट तय तकरीबन हो चुका था लेकिन अब चिराग और मांझी के सीट को लेकर अहम बात हो सकती है हालाँकि लोजपा की सीट मांग खतरनाक है और इसे कैसे सुलझाया जा सकता है यह आने वाले समय पर निर्भर करता है। लोजपा कम सीटों में मानती है या फिर आर या पार करती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here