चिराग के सुर बदलते ही, JDU ने कहा नीतीश कुमार है दलितों के सबसे बड़े नेता

0
658

बिहार में इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीति पूरी तरह से तेज हो गई है. विपक्ष लगातार सरकार पर हमलावर हैं. इधर बिहार एनडीए में चिराग पासवान के सुर बदल गए हैं. भले ही वह एनडीए के साथ है लेकिन सार्वजनिक मंचों पर वह नीतीश कुमार की नीतियों का विरोध करते रहे हैं. इस साल बिहार में विधानसभा का चुनाव होना है ऐसे में उनके तल्ख तेवर साफ देखे जा सकते हैं. इस समय बिहार में कोरोना काल में विधानसभा चुनाव को लेकर बीजेपी और जदयू सहमत है लेकिन लोजपा के साथ पूरा विपक्ष विरोध कर रहा है. इसके बाद से जदयू के नेता ने नीतीश कुमार को दलितों को सबसे बड़ा नेता कहा है.

बिहार के योजना एवं विकास विभाग के मंत्री और जेडीयू के वरिष्ठ नेता महेश्वर हजारी ने कहा है कि नीतीश कुमार ही दलितों के सबसे बड़े नेता हैं. सिर्फ दलित भर हो जाने से कोई दलितों का नेता नहीं हो जाता है. दलितों के लिए जितना काम नीतीश कुमार ने किया है उतना किसी नेता ने नहीं किया है. लोजपा के प्रदेश अध्यक्ष प्रिंस राज ने बयान दिया है कि कोरोना संक्रमण का मामला जिस तरह से फैल रहा है, बिहार में इससे फिलहाल चुनाव कराने से लोगों के स्वास्थ्य पर असर पड़ सकता है. उन्होंने कहा कि हमारे सांसद भी कोरोना से ग्रसित हो गए हैं. इस घड़ी में चुनाव कराना मुझे नहीं लगता है सही कदम होगा. बाकी तो चुनाव आयोग को तय करना है की वो क्या करेंगे. क़ोरोना का हाल ये है कि मुख्यमंत्री आवास तक पहुंच चुका है.

आपको बता दें कि नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव लगातार कोरोना काल में चुनाव कराने का विरोध कर रहे हैं. तेजस्वी यादव ने कहा है कि जनता कोरोना से परेशान है. और नीतीश जी इसके बावजूद चुनाव को लेकर जल्दबाजी में हैं. आपको बता दें कि एनडीए के साथ लोजपा का सुर अब राजद के सुर के साथ मिल रहा है. जिसके बाद से जदयू ने बड़ा बयान देते हुए कहा है कि दलितो के नेता है नीतीश कुमार.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here