दशहरा पंडाल में लगाई बिहार के पूर्व सीएम लालू-राबड़ी की मूर्ति

0
468

झारखण्ड के एक पंडाल में मूर्तियों के साथ बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव और राबड़ी देवी की मूर्ति भी लगा दी गयी है |

जिसके बारे में (राजद) राष्ट्रीय जनता दल रांची- झारखंड के नवयुवक संघ ने ट्वीट कर लिखा है कि राजद परिवार तहेदिल से आपका आभार प्रकट करता है कि आपने ग़रीबों, उपेक्षितों, उत्पी’डितों, उपहासितों एवं वंचितो के मसीहा लालू जी के सामाजिक कार्यों को कला के माध्यम से रेखांकित करने का सराहनीय कार्य किया है। आप इसके लिए बधाई के पात्र हैं, आपको ढेर सारी शुभकामनाएँ |

इतना ही नहीं, राजद ने एक और ट्वीट किया है एवं मीडिया की ओर से उठाए गए सवाल पर दूसरे ट्वीट में उसने लिखा है कि जब ‘आसाराम, राम-रहीम एवं चिन्मयानंद की पूजा की जा सकती है तो फिर लालू यादव और राबड़ी देवी को क्यों नहीं पूजा जा सकता | लेकिन विवाद तब उठता है कि जब हाथ जोड़ मूर्ति के सामने खड़े लालू जी और राबड़ी देवी जी की प्रतिमा लगा दी जाती है, जब कमल की जगह सजावट के लिए पंडाल में लालटेन लगा दिया जाता है |

लेकिन जब यह बात सत्‍ता के गलियारे में आई तो पंडाल के आयोजक ने सफाई दी है, जिसके बारे में राजद महासचिव सह पंडाल आयोजक ने कहा कि इसमें कुछ भी गलत नहीं है। उन्‍होंने कहा कि लालू-राबड़ी प्रतिमा के रूप में खुद एक भक्‍त की तरह हाथ जोड़े हुए हैं | वे खुद पंडाल में खड़े होकर मूर्ति रूप में गुहार लगा रहे हैं, बता दें कि झारखंड में विधानसभा चुनाव की घोषणा हो चुकी है एवं प्रतिमाओं को चुनाव में फायदे के लिए लगाये जाने की बात कह रहे हैं। बहरहाल पंडाल में लालू-राबड़ी की प्रतिमाओं के लगाए जाने को लेकर स्‍थानीय लोगों में नाराजगी जताई जा रही है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here