महागठबंधन में जीतन राम मांझी का डेडलाइन खत्म, अब क्या करेंगे आगे?

0
493

बिहार में इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीति तेज हो गई है. महागठबंधन में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. वर्तमान राजनीति में जीतन राम मांझी समन्यवय समिति बनाने को लेकर अड़े हुए हैं. उन्होने 25 जून की रात 10 बजे तक का समय दिया था उसके बाद उन्होने कहा था हम कोई भी फैसला लेने के लिए स्वतंत्र हैं. आपको बता दें कि हम के राष्ट्र्रीय प्रवक्ता ने कहा है कि 26 जून को हम की बैठक होगी उसमें सभी फैसले लिए जाएंगे.

2019 लोकसभा चुनाव के समय भी महागठबंधन में इसी तरह का रार देखने को मिला था. उस समय भी मांझी ने समन्वय समिति का अल्टीमेटम दिय़ा था. लेकिन राजद आज भी झुकने के लिए तैयार नहीं है. दरअरसल मांझी चाहते हैं कि महागठबंधन में समन्वय समिति ही सीट शेयरिंग लेकर मुख्यमंत्री का चेहरा तक का फैसला हो. लेकिन राजद पहले ही तेजस्वी यादव को अपनी पार्टी का मुख्यमंत्री का चेहरा मान रही है. ऐसे में महागठबंधन में सब कुछ ठीक नहीं लग रहा है.

महागठबंधन में मचे इस घमासान के बीच यह चर्चा भी खूब रही कि मांझी जेडीयू के साथ जा सकते हैं. स्थिति को देखते हुए कांग्रेस अध्‍यक्ष सोनिया गांधी ने मांझी को दिल्‍ली तो बुलाया, लेकिन उनसे बातचीत की कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने. इसके अगले दिन सोनिया गांधी की अध्‍यक्षता में महागठबंधन की वर्चुअल बैठक में भी सोनिया शामिल नहीं हुईं. आरजेडी की तरफ से भी तेजस्‍वी के बदले सांसाद मनोज झा शामिल हुए. बैठक में समस्‍या का कोई समाधान नहीं हो सका.

अब इस संयोग कहें या कुछ और, मांझी ने समन्‍वय समिति के लिए महागठबंधन को 25 जून तक की डेडलाइन दी है और 26 जून को ‘हम’ की कोर कमेटी की पटना में बैठक हो रहा है. ऐसे में अब नजरें इस बैठक पर टिकी हैं. सवाल यही है कि आखिर डेडलाइन बीतने के बाद मांझी क्‍या फैसला लेते हैं?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here