जानिए, क्या खास बात है? किसान चाची में, जो जे पी नड्डा खुद जाकर करेंगे मुलाकात

0
215

बिहार में इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीति पूरी तरह से तेज हो गई है. अब सभी राजनीतिक पार्टियां अपनी-अपनी गोटियां सेट करने में लगी है. इधर बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा 12 सितंबर को बिहार आ रहे हैं. वे यहां मुजफ्फरपुर में आनंदपुर गांव में रहने वाली किसान चाची के घर जाएंगे. जहां वे कृषि से जुड़े उनके अनुभव को सुनेंगे. आपको बता दें कि इस दौरान उनके साथ 50 महिला किसान भी मौजूद रहेंगी.

आपको बता दें कि किसान चाची की चर्चा उन महिला किसानों में होती है जिन्होंने अपनी लगन और मेहनत के बदौलत न सिर्फ अपना जीवन संवारा उन्होंने अपने रोजगार के दम पर हजारो महिलाओं का जीवन बदल दिया. राजकुमारी देवी से किसान चाची बनने में इनका लंबा संघर्ष रहा. किसान चाची के जानने वाले बताते हैं कि एक समय ऐसा भी था जब उनके घऱ में दो वक्त का खाना जुटाना मुश्किल हो रहा था. फिर उन्होंने खुद खेती करना शुरू किया और उन्होंने अचार बनाना शुरू किया.

राजकुमारी देवी ने अपने द्वारा बनाए अचार को अब बाजार मे ले जाना शुरू कर दिया. इस दौरान उन्हें समाज की कई कठिनाईयों का सामना करना पड़ा. लेकिन राजकूमारी ने इन सभी वाधाओं से हार नहीं माना और एक कृषक कारोबारी के रुप में अपनी एक अलग पहचान बनाई. आज राजकुमारी देवी को पूरा देश किसान चाची के नाम से जानता है. और सम्मान की नजर से देखता है.

किसान चाची का जीवन काफी संघर्षपूर्ण रहा है. किसान चाची की शादी 1974 में हुई थी. उसके बाद वह ससुराल में रहने लगी. लेकिन उनको लंबे समय तक कोई संतान नहीं हुआ. 1983 में उन्हें एक बेटी हुई उसके बाद भी घर वालों ने उसे भला बूरा कहा. इसके बाद घऱ वालों ने इन दोनों पति पत्नी को घऱ से बाहर निकाल दिया फिर इन दोनों पति पत्नी ने मिलकर खेती करना शुरू किया. इन्होंने वैज्ञानिक तरीके से खेती की. इ्न्होने अपनी खेती की शुरुआत सब्जी के अत्पादन से किया था. लेकिन सब्जी का बाजार में उचित भाव नहीं मिलने के कारण इन्होंने सब्जी की खेती छोड़ दी और अचार और मुरब्बा बनाना शुरू कर दिया.

किसान चाची को उनके मेहनत का फल 2003 में मिला जब उन्हें किसान मेले में उनके उत्पाद को पुरस्कार मिला. 2006 में किसान श्री सम्मान से नवाजा गया. यही वह समय था जब राजकुमारी देवी किसान चाची के नाम से जानी जाने लगी. इसकेबाद उन्हें वाइब्रेट गुजरात-2013 में आमंत्रित किया गया था. 2015 और 2016 में अमिताभ बच्चन ने KBC में बुलाया था.अब वह साइकिल के बजाए स्कूटी से चलती हैं. आपको बता दें कि आज उनके प्रोडक्ट विदेशों में निर्यात होते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here