कन्हैया कुमार पर चलेगा देशद्रोह का मुकदमा, कन्हैया ने कही यह बड़ी बात

0
392

जवाहर लाल नेहरु विश्वविद्यालय (JNU) में देश विरोधी नारे लगाने के मामले में शुक्रवार को दिल्ली सरकार (Delhi Goverment) ने बड़ा फैसला लिया है. सरकार ने JNU के छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार समेत दस लोगों पर देश द्रोह का मामला चलाने के लिए दिल्ली पुलिस को अनुमति दे दी है. आपको बता दें कि यह मामला पिछले साल से दिल्ली पुलिस (Delhi police) के पास लंबित पड़ा हुआ था.

दिल्ली सरकार का मुकदमा चलाने की मंजरी मिलने के बाद कन्हैया कुमार ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है. न्यूज एजेंसी एएनआइ से बात करते हुए उन्होंने कहा है कि यह स्पष्ट है कि यह मामला राजनीतिक लाभ के लिए बनाया गया था और इसमें देरी हुई. मैं एक फास्ट-ट्रैक कोर्ट में ट्रायल चाहता हूं. ताकि पूरे देश को पता चले कि कैसे राजद्रोह जैसे कानून का दुरूपयोग हो रहा है. कन्हैया कुमार ने आगे बोलते हुए कहा कि जब पहली बार चार्जशीट दाखिल की गई थी जब मैं चुनाव लड़ने वाला था और अब बिहार में फिर चुनाव होने वाले हैं.

आपको बता दें कि 9 फरवरी को JNU में देशविरोधी नारे लगाए गए थे. उस नारे वाजी की वीडियो सामने के बाद मामले की जांच की गई थी. उसके बाद कन्हैया कुमार पर मुकदमा दर्ज किया गया था. जेएनयू के इस मामले में कन्हैया कुमार, उमर खालिद, अनिर्बान, आकिब हुसैन, मुजीब, उमर गुल, बशरत अली व खालिद बसीर सहित 10 लोगों के खिलाफ अदालत में 14 जनवरी 2019 को आरोपपत्र दाखिल किया था. लेकिन दिल्ली सरकार ने उस समय दिल्ली पुलिस को इन पर कार्यवाही करने की अनुमती नहीं दी थी. लेकिन अब इसकी अनुमति दे दी गई है.

आपको बता दें कि कन्हैया कुमार के उपर कार्यवाई करने की बात सामने आने के बाद कन्हैया कुमार ने सफाई दी है और कहा है कि इसके लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट होना चाहिए. और उन्होंने कहा कि यह सब राजनीति के तहत किया जा रहा है. इस समय बिहार में विधानसभा चुनाव है और मेरे उपर आरोप लगाए जा रहे हैं. आपको बता दें कि कन्हैया कुमार ने पटना में हुए रैली में एक बच्चे से पीएम मोदी मुर्दाबाद के नारे लगवाए थे. उसके बाद से दिल्ली सरकार ने मामलेको दिल्ली पुलिस को सौंप दिया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here