जानियें कितने धन संपत्ति के मालिक हैं शॉटगन शत्रुघ्न सिन्हा…

0
756

अनोखी आवाज के मालिक और अपनी अदाकारी से करोडो का दिल जितने वाले बिहारी बाबु शत्रुघ्न सिन्हा अब किसी पहचान के मोहताज नही हैं. फ़िल्मी दुनिया के साथ साथ राजनीती में भी उन्होंने अपनी एक सफल पारी खेली, लेकिन फ़िल्मी दुनिया से राजनीति तक का सफ़र बिहारी बाबु के लिए उतना भी आसान नही रहा है उसकी चर्चा हम आगे करेंगे, साथ ही साथ आज के इस विडियो में हमलोग शत्रुघ्न सिन्हा का जन्म स्थान, शिक्षा, उनकी फॅमिली, उनका फ़िल्म से राजनीती तक का सफ़र, और साथ ही उनकी ल्ग्जरिउस लाइफ गाडी बंगला और बैंक बैलेंस के बारे में भी बात करेंगे, तब तक बने रहे हमारे साथ,

तो शुरू करते हैं शत्रुघ्न सिन्हा के जन्म से, शॉटगन कहे जाने वाले शत्रुघ्न सिन्हा का जन्म 9 दिसंबर 1945 को बिहार की राजधानी पटना के कदमकुआ स्थित घर में हुआ था. अपने तीन बड़े भाई में शत्रुघ्न सबसे छोटे थे.उनके तीन बड़े भाइयों में राम अभी अमेरिका में हैं और पेशे से साइंटिस्ट हैं। लखन इंजीनियर हैं और अभी मुंबई में हैं। तीसरे भरत पेशे से डॉक्टर हैं औैर वो अभी लंदन में रहते हैं। और शत्रुघ्न ने चुना फ़िल्मी दुनिया का सफ़र, और बन गए एक सफल अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा के पिता भुवनेश्वरी प्रसाद सिन्हा और माता श्यामा सिन्हा का निधन हो चुका है।

बात करें इनकी शिक्षा की तो शत्रुघ्न सिन्हा ने बिहार की राजधानी पटना के ही पटना साइंस कॉलेज से अपनी ग्रेजुएशन कम्पलीट की और फिर उसके बाद उन्होंने फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया, पुणे में अपना दाखिला करवाया.

आपको बता दे की शत्रुघ्न सिन्हा ने पूर्व मिस यंग इंडिया पूनम सिन्हाके साथ शादी रचाई. शत्रुघ्न ने पूनम को चलती हुई ट्रेन में फिल्म पाकीजाके डायलॉग अपने पांव जमीन पर मत रखिएगा…’ को कागज पर लिखकर प्रोपोज किया था. शादी के बाद उनके तीन बच्चे हुए दो बेटे लव, कुश और एक बेटी सोनाक्षी सिन्हा जो फ़िल्मी दुनिया की जानी मानी अभिनेत्री हैं.

आपको बता दे की शत्रुघ्न सिन्हा के पिता चाहते थे की और सभी बेटों की तरह शत्रुघ्न भी डॉक्टर इंजिनियर या साइंटिस्ट बने लकिन ग्रेजुएशन के बाद शत्रुघ्न सिन्हा ने पुणे फिल्म इंस्टिट्यूट ज्वाइन कर लिया,FTII से ट्रेनिंग लेने के बाद शत्रुघ्न सिन्हा ने फ़िल्मी दुनिया में अपनी स्ट्रगल की शुरुआत की.

गौरतलब है की शत्रुघ्न सिन्हा के चेहरे पर कटे हुए के निशान हैं जिस वजह से बोहोत सारे लोगो ने कहा था की ये कटी फटी शक्ल लेकर और ये बड़ी बड़ी मुछे लेकर तुम हीरो नही बन सकते. इस बात से परेशान शत्रुघ्न सिन्हा एक प्लास्टिक सर्जन से बात भी की थी, ताकि चेहरे पर किसी भी तरह का कटे का निशान हटा दे.

लेकिन तभी बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता देव आनद ने शत्रुघ्न को रोका और देव आनद साहब ने शत्रुघ्न सिन्हा को समझाया और कहा काम चलेगा तो नाम चलेगा,और जो तुम्हारी खामी है वो तुम्हारी खूबी बन जाएगी.तुम मुझे ही देख लो मेरे दांतों के बीच में एक गढ्ढा है लेकिन यही गढ्ढा अब मेरी अदा बन गयी है, जिसे लोग खूब पसंद करते हैं ,शत्रुघ्न सिन्हा ने देवानंद से प्रेरित होकर, प्लास्टिक सर्जरी का प्लान ड्राप कर दिया, और वो फिल्मों में फिर से स्ट्रगल करने लगे,

फिर देव साहब के ही फिल्म प्रेम पुजारी में बिहारी बाबु ने एक छोटा सा किरदार निभाया, वैसे तो शत्रुघ्न सिन्हा की फिल्म में शुरुआत एक विलन के तौर पर हुई थी, लेकिन धीरे धीरे उनके पास पॉजिटिव रोल भी आने लगे, फिल्म आ गले लग जा में शत्रुघ्न सिन्हा के डॉक्टर वाले रोल को लोगो ने खूब पसंद किया . और फिर सुभाष गई की फिल्म कालीचरण ने बॉक्स ऑफिस पर रिकॉर्ड ही तोड़ दिए.

क्यों बे पठ्ठे के उल्लू , मेरा मतलब उल्लू के पठ्ठे चोरी करने आया था वो भी इंस्पेक्टर सूरज प्रताप सिंह के घर में

गौरतलब है की बिहारी बाबू शत्रुघ्न सिन्हा की डायलाग डिलीवरी अपने आप में एक अनोखा स्टाइल बन गया . जबरदस्‍त अभिनय के बादशाह माने जाने वाले शत्रुघ्‍न की पहचान खामोशशब्‍द से भी होती है उनका खामोश कहने का अंदाज ही अपने आप में अनोखा था, आपको बता दे की जब भी परदे पर शत्रुघ्न कहते खामोश, तो पब्लिक तालियाँ बजाते नही थकती. और इस शब्द ने लोगो के दिल पर एक अमिट छाप छोड़ दी.

इसके अलावा भी उनके कई ऐसे डायलॉग हैं जो लोगों की जुबान पर आज भी रटे हुए हैं. 1975 में शत्रुघ्न की फिल्म कालीचरणरिलीज हुई थी। जिसमें उन्होंने कुछ ऐसा ही डायलॉग मारा था।सर पर कफ़न बांधने वाले मौत से नही डरा करते और फिल्म बेताज बादशाहका यह डायलॉग काफी चर्चित रहा
हम वो पंडित हैं जो शादी भी कराते हैं और श्राद्ध भी

और भी ऐसे बोहोत से डायलॉग हैं जिसने लोगो को खूब इंटरटेन किया अगर आपके मन में भी शत्रुघ्न सिन्हा के ऐसे कोई फेमस डायलोग आ रहे हैं तो नीचे कमेंट सेक्शन में लिखकर लोगो को जरुर बताएं

बात करें उनकी राजनितिक करियर की तो पिछले कुछ सालों में शत्रुघ्न सिन्हा के राजनीतिक जीवन में कई उतार चढाव देखने को मिले हैं। शत्रुघ्न सिन्हा 1990 के दौर से राजनीति में सक्रिय हैं। तीन दशक से भाजपा के साथ बने हुए शत्रुघ्न सिन्हा, 2019 के लोकसभा चुनाव के पहले, भाजपा का दामन छोड़ कांग्रेस के खेमे में चले गए। शत्रुघ्न सिन्हा 2009 से 2014 और 2014 से 2019 तक पटना साहेब से लोकसभा सदस्य रह चुके हैं। इसके अलावा वे दो बार राज्यसभा सांसद भी रह चुके हैं। अटल बिहारी सरकार के दौरान शत्रुघ्न सिन्हा केन्द्रीय मंत्री भी रह चुके हैं। आपको बता दे की बतौर सांसद उनका मासिक वैतन ₹2 से ढाई लाख तक था।

अब बात करें उनकी नेट वर्थ, कमाई और असेट्स यानि संपत्ति की तो साल 2019 के चुनावी नामांकन के अनुसार उनका सालाना आय 112 दशमलव 22 करोड़ है. इसमें से चल संपत्ति की कुल कीमत ₹8 दशमलव 60 करोड़ और अचल संपत्ति की कुल कीमत ₹103 दशमलव 61 करोड़ बताई गई हैं। इसके अलावा शत्रुघ्न सिन्हा ने अपने पास मौजूद कुल कैश की कीमत ₹4, लाख58 हज़ार 232 बताई हैं। शत्रुघ्न सिन्हा के बैंक में ₹2 दशमलव 74 करोड़ के फिक्स डिपोजिट हैं, और 29 लाख के इन्वेस्टमेन्ट्स, शेयर्स, बॉण्ड्स और म्युचवल फंड्स हैं लगभग ₹1 करोड़ का सोना, चाँदी और अन्य कीमती जेवर हैं। इसके अलावा शत्रुघ्न सिन्हा के पास कई महंगी गाड़ियों का कलेक्शन भी हैं। जिसमें से एक एम्बेसडर, दो कैम्री, इनोवा, मारुती, स्कोर्पीयो और फॉरच्युनर शामिल हैं।

आपको बता दे फिलहाल शत्रुघ्न सिन्हा अपने बयानों की वजह से काफी सुर्ख़ियों में रहते हैं। आज के लिए बस इतना ही हम आशा करते हैं की शत्रुघ्न सिन्हा से जुड़ी जानकारियाँ बिहारी न्यूज़ से पाकर आपको अच्छा लगा होगा, किसी और विषय पर आप हमसे जानकारियाँ चाहते हैं तो कृपया कमेंट बॉक्स में जरुर बताये, तब तक के लिए धन्यवाद.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here