क्या है बिहारियों के इस फोटो की सच्चाई जिसे देख भारत-पाकिस्तान बंटवारे की आती है याद

0
260

गुजरात में बिहारियों पर हो रहे हमले से बिहार के लोग गुजरात से पलायन कर रहे है। गुजरात में हुए इस घटना को लेकर राजनीति भी तेज हो गई है। जहां भाजपा इसका जिम्मेदार कांग्रेस को मानता है वही कांग्रेस इस घटना को लेकर राज्य और केंद्र सरकार पर निशाना साधने में लगा हुआ है। इसी बीच इस मामले से जुडी हुई एक तस्वीर काफी तेजी से वायरल हो रही है।

गुजरात में भड़के हिंसा से सम्बन्ध बताये जा रहे इस तस्वीर में एक ट्रेन में खचाखच भरे हुए लोग है। तस्वीर को शेयर करते हुए लोग लिख रहे है कि गुजरात से बिहारियों को इस तरह से भगाया जा रहा है जैसे वर्ष 1947 में हुए भारत-पाकिस्तान बंटवारे का हाल था। इस तस्वीर को लोग भारत के बंटवारे से तुलना कर रहे है। इस तस्वीर को देखने के बाद शायद आपको भी ऐसा लगेगा कि वर्तमान में गुजरात से आने वाले बिहारी और यूपी के लोगों की हालत कुछ ऐसी है।

क्या है सच्चाई ?
इस तस्वीर को लेकर जहां कई राजनीतिक दल राजनीती शुरू कर चुके है तो कई लोग इस तस्वीर की सच्चाई जानना चाह रहे है। इस तस्वीर के वायरल होते ही कई सारी न्यूज़ एजेंसियों ने इसकी सच्चाई जानने के लिए खोजबीन शुरू कर दिया। एक निजी पोर्टल की माने तो यह तस्वीर गुजरात की नहीं है। दरअसल ये तस्वीर वर्ष 2010 के 24 जुलाई की है ,उस दिन गुरु पूर्णिमा था जिसके अवसर पर सभी लोग मथुरा के निकट गोवर्धन जा रहे थे। गोवर्धन में इस दिन होने वाले परिक्रमा को लेकर दूर-दूर से लोग आते है। इस दौरान वहां काफी भीड़ होती है जिसकी वजह से ट्रेन में इतने लोग भरे हुए है। इस तस्वीर को रायटर्स न्यूज़ एजेंसी के लिए के के अरोड़ा ने क्लीक किया था।


गौरतलब है कि पिछले दिनों गुजरात में एक बिहारी द्वारा एक 14 महीने के बच्ची के साथ किये गए कुकर्म को लेकर गुजरात में बिहार और यूपी के लोगों के खिलाफ रोष है। इस घटना के बाद गुजरात से बिहारियों को भगाये जाने लगे और उनपर हमला किया जाने लगा। पिछले एक सप्ताह में करीब 20 हजार से अधिक बिहारी और यूपी के लोगों ने पलायन करना शुरू कर दिया। हालाँकि दो दिनों से मामला शांत है परन्तु बिहारियों में भय अभी भी व्याप्त है।

  • 36
  •  
  •  
  •  
  •  
    36
    Shares
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here