जानें कब है कार्तिक पूर्णिमा, क्या है इस पूर्णिमा का महत्व

0
305

कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को कार्तिक पूर्णिमा कहलाती है। इसे ख़ास कर गंगा स्नान के नाम से जाना जाता है या फिर इसे त्रिपुरी पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन पवित्र नदी गंगा का स्नान, दीपदान, भगवान की पूजा, आरती, हवन और दान का बहुत महत्व है। धार्मिक मान्यता के अनुसार इस दिन गंगा में स्नान करने से पूरे साल जितना गंगा स्नान का फल प्राप्त होता है। इस साल कार्तिक पूर्णिमा 23 नवंबर शुक्रवार को है।

क्या है इस पूर्णिमा का महत्व

बड़े बुज़ुर कहते है के इस पूर्णिमा तिथि पर ही भगवान शिव ने राक्षस त्रिपुरासुर का वध किया था। इसलिए इस दिन को त्रिपुरी पूर्णिमा कहा जाता है। इस दिन चंद्रोदय के समय शिव जी और कृतिकाओं की पूजा करने से भगवान शंकर जल्द प्रसन्न होते हैं। इसके साथ ही इस दिन दीप दान का विशेष महत्व है।

 

कार्तिक पूर्णिमा के दिन ही संध्या काल में भगवान विष्णु का मत्स्यावतार हुआ था। इसलिए इस दिन विष्णु जी की पूजा भी करते है। इस दिन गंगा स्नान जरूर करे बिना गंगा स्नान के ये पूजा अधूरी है। गंगा स्नान करने के बाद दीप दान का पुण्य फल दस यज्ञों के बराबर होता है।

गंगा स्नान के बाद जरूरतमंदों को दान करना चाहिए। इस दिन मौसमी फल, उड़द दाल, चावल आदि का दान करना शुभ मन जाता है।और कुछ भी आप दान कर सकते है।

अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें फेसबुक पर ज्वाइन करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here