विकास दुबे की गिरफ्तारी में बिहार के लाल का रहा अहम योगदान, अब UP पुलिस कर रही है तारीफ

0
1517

कानपुर के गैंगस्टर विकास दुबे की गिरफ्तारी और एनकाउंटर मामले में बिहार के लाल का बहुत ही महत्वपूर्ण यागदान रहा है. बिहार सारण के मनोज सिंह उज्जैन में पुलिस अधिक्षक के पद पर तैनात हैं. उत्तर प्रदेश पुलिस उनकी काबिलियत की तारीफ कर रही है. उनके कार्य़ की प्रशंसा कर रही है. आपको बता दें कि गुरुवार को विकास दुबे ने उज्जैन में महाकाल के मंदिर में अपने आप को सरेंडर कर दिया था. जिसके बाद से मध्यप्रदेश पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया था.

आपको बता दें कि कुख्यात अपराधी विकास दुबे कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद फरार हो गया था. उत्तर प्रदेश से भागने के बाद वह दिल्ली गया था उसके बाद वह मध्यप्रदेश चला गया जहां वह उज्जैन के महाकाल मंदिर में गिरफ्तार कर लिया गया. विकास को गिरफ्तार करने वाले मनोज सिंह बिहार के सारण के रहने वाले हैं. गिरफ्तारी के बाद से उनकी टीम की खुब तारीफ हो रही है.

मध्यप्रदेश सरकार भी बिहार के इस लाल पर गौरवांन्वित महसूस कर रही है. आपको बता दें कि मनोज सिंह 1994 में मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग की परीक्षा पास की और वर्। 1995 में उनहें डीएसपी बना दिया गया था. पंद्रह साल की नौकरी करने के बाद उन्हें 2010 में इंदौर का एसपी बनाया गया था. उनके बारे में कहा जाता है कि उन्होंने जहा जहां काम किया है उनकी ईमानदारी और उनके साहस और कार्य करने की क्षमता की लोग दाद देते हैं. एसपी बनने के बाद उन्होंने खुब इमानदारी से काम किया और लोगों के बीच वे काफी लोकप्रिय हो गए. इस कोरोना काल में शिवराज सिंह की सरकार ने उन्हें उज्जैन का एसपी बनाया.

उज्जैन का एसपी बनने के बाद उन्होंने विकास दुबे जैसे कुख्यात गैंगेस्टर को गिरफ्तार किया. बिहार सारण में उनके गांव मुबारकपुर के लोग काफी खुश हैं. अपने लाल के साहस को देखर पूरा गांव खुश है. गांव के लोग बताते हैं कि जब वे गांव में आते हैं तो गांववालों के साथ घुल मिलकर रहते हैं. बाग-बगीचों में घूमना, सबसे बातें करना, सत्तु खाना, कीर्तन में गाना बजाना उनका स्वभाव हैं. वे जहां भी ड्यूटी पर रहे हैं उनके कार्यों की खुब सराहना हुई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here