गरीबी से डॉक्टर न बन पाए, लेकिन लिट्टी चोखा के दम पर बने लखपति…

0
755

यह कहानी भले ही बड़ी फ़िल्मी लगती हो लेकिन यह वास्तविक कहानी है. इस कहानी के हीरो हैं बिहार के देवेन्द्र सिंह. देवेन्द्र सिंह का सपना था कि वो अपने पढाई के दम पर एक दिन डॉक्टर बनें लेकिन उनकी गरीबी ने उनसे उनका यह सपना पूरा नहीं होने दिया. लेकिन देवेन्द्र सिंह भी तो किसी फिल्म के हीरो से कम थोड़े न हैं जो किसी कठिनाई से डर जायेंगे और नाकामयाबी को अपना लेंगे. देवेन्द्र ने ठान लिया कि वो अपनी जिंदगी को काफी बेहतर बना कर ही दम लेंगे.

साल 1992 में 10वीं पास करने के बाद देवेन्द्र मेडिकल की तैयारियों में जुट गये. पांच साल तक उन्होंने मेडिकल की तैयारी जम कर की. उनका सिलेक्शन बीआईटी एग्रीकल्चर कॉलेज में हुआ लेकिन उन्हें वो कॉलेज नहीं जमा. उन्हें आगे की तैयारी के लिए पिता का समर्थन नहीं मिला क्यूंकि पिताजी पाई-पाई जोड़कर पढाने का खर्च इकट्ठा कर पा रहे थे. इसलिए उन्होंने अपना लक्ष्य बदला और होटल मैनेजमेंट में जुट गये क्यूंकि उसके जरिये जल्दी और अच्छी जॉब मिल जाती है. फिर उन्होंने रांची से होटल मैनेजमेंट किया और 1999 में दिल्ली आ गये. दिल्ली से ट्रेनिंग पूरी कर वापस रांची चले गये.

बहुत मेहनत के बाद 2002 में होटल ताज में नौकरी लगी. एक साल काम करने के बाद देवेन्द्र ने होटल ग्रैंड हयात ज्वाइन किया. डेढ़ साल काम करने के बाद उन्होंने विशाल मेगा मार्ट में फ़ूड चैन स्टार्ट किया. इसका चलन बोला जाए तो देवेन्द्र ने ही प्रारंभ किया. उन्होंने बताया की मैंने 11 सालों में बड़े-बड़े होटलों में काम किया, फ़ूड कोर्ट खोले लेकिन कहीं किसी होटल के मेनू में मैंने लिट्टी-चोखा का नाम नहीं देखा. तभी मैंने सोच लिया कि देश की राजधानी दिल्ली में लिट्टी-चोखा को ब्रांड बना मशहूर करूँगा. साल 2010 में उन्होंने अपनी 70 हजार की नौकरी छोड़कर लक्ष्मी नगर में अपना पहला आउटलेट खोला. लोगों ने बहुत मजाक उड़ाया, यहाँ तक की परिवार वालों ने भी साथ नहीं दिया. लेकिन जिस लिट्टी चोखा के कारण परिवार ने देवेन्द्र को बेदखल कर दिया था उसी लिट्टी चोखा से आज देवेन्द्र को नाम, शौहरत, पैसा, इज्जत सब मिला. उन्होंने कहा कि मेरी एक सीजन की कमाई लगभग 10 लाख रुपये तक होती है.

अपनी मेहनत और कुछ कर जाने की जूनून के दम पर आज देवेन्द्र ने एक मिसाल कायम किया है.

  • 292
  •  
  •  
  •  
  •  
    292
    Shares
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here