नीतीश कुमार को CM बनने का डर अभी से सता रहा है महागठबंधन के साथियों को

0
681

बिहार में राज्यसभा की सीटों को लेकर महागठबंधन में उठापटक की स्थिति बनी हुई है. महागठबंधन में राज्य सभा सीटों को लेकर कांग्रेस और राजद आमने सामने आ गए हैं. अब शरद यादव (Sharad yadav) ने भी एक बड़ा फैसला लिया है. उन्होंने कहा है कि इस महिने मैं जाउंगा और साथियों से चर्चा करने के बाद कोई फैसला लुंगा.

उन्होंने कहा कि महागठबंधन में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. उन्होंने कहा कि महागठबंधन की सेहत को लेकर सहयोगियों से बात करने की जरूरत है. उन्होंने साफ साफ कहा कि आने वाले विधानसभाचुनाव को लेकर बिहार में महाठबंधन के साथी जीतन राम मांझी, उपेंद्र कुशवाहा और मुकेश सहनी को साथ में लेने पर उन्होंने कहा कि इन सभी मुद्दों पर फैसला लिया जाएगा. आपको बता दें कि कुछ दिनों पहले शरद यादव रांची के रिम्स अस्पताल में राजद सुप्रीमो लालू यादव से मुलाकात करने पहुंचे थे. जिसके बाद से यह कयास लगाया गया जा रहा था कि वे राज्य सभा में अपनी सीट को लेकर दावेदारी कीबात कहने गए हैं. जब उनसे इस बाबत पुछा गया तो उन्होंने कहा कि मैं राज्य सभा में सांसद हूं हमारी सीट पर केस चल रहा है.

इधर महागठबंधन के साथी राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (RLSP) RJD पर धोखा देने का आरोप लगाया है. पार्टी के प्रधान महासचिव माधव आनंद ने कहा कि राज्यसभा चुनाव में किसने दोखा दिया सबको पता है. नहीं तो नीतीश बन जाएंगे सीएम. माधव ने यह भी कहा कि महागबंधन में ऑल इज वेल नहीं है. कुछ पार्टियां चाहती हैं कि गठबंधन में रहें. कुछ पार्टियों को गठबंधन नाम से मतलब नहीं है. जल्द से जल्द ले लें निर्णय नहीं तो किस्मत के धनी हैं नीतीश कुमार, 2020 में फिर मुख्यमंत्री बन जाएंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here