उत्तर बिहार की लाइफ लाइन महात्मा गांधी सेतु पुल कल से हो जाएगा शुरू

0
376

उत्तर बिहार को सड़क के मार्ग से जोड़ने वाली महात्मा गांधी सेतु पुल कल यानी की गुरुवार से एक बार फिर से नए अंदाज में खुल जाएगी. महात्मा गांधी सेतु पुल का पश्चिमी लेन बनकर तैयार हो गया है. जिसका उद्घाटन कल यानी की 31 जुलाई को 11 बजे केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नीतिन गडकरी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इसका उद्धाघाटन करेंगे. अब इस पुल की आयु 100 साल बताया जा रहा है.

महात्मा गांधी सेतु पुल के नए स्ट्रक्चर को हटा कर फिर से बनाया गया है. इस बार पश्चिमी लेन को पूरी तरह से स्टील से बनाया गया है. जो देखने में काफी आकर्षक भी है. पश्चिमी लेन को बनाने में लगभग 700 करोड़ रुपए खर्च किए गए हैं. इसका निर्माण 3 सालों में किया गया. साढे पांच किलो मीटर लंबे इस पुल के नए लेन के निर्माण में 45 स्पैन लगाए गए हैं. हालांकि पश्चिमी लेन का सुपर स्ट्रक्चर लोहे का है लेकिन पुराने पुल का 46 पिलरों का इस्तेमाल इसमें किया गया है. इसे चौड़े स्टील ट्रश से बनाया गया है. जो काफी मजबूत है.

इस पुल से उत्तर बिहार के करीब पांच करोड़ लोग राजधानी पटना समेत प्रदेश के कई अन्य जिलों से जुड़ते हैं. श्चिमी लेन के शुरू होने के बाद उत्तर बिहार जाने वालों के लिए बड़ी राहत साबित होगी. नए अंदाज में लोगों की सेवा के लिए तैयार हुए गांधी सेतु का पश्चिमी हिस्सा दो लेन का है. बरसात के बाद पूर्वी लेन के जीर्णोद्धार का कार्य प्रारंभ किया जाएगा. 1742.01 करोड़ की लागत से बनने वाले इस पुल में 66,360 मीट्रिक टन लोहे का उपयोग उपयोग किया जाना है.

हावड़ा ब्रिज के तर्ज पर डिजाइन किए गए इस पुल के सभी पाए जहां पुराने कंक्रीट के बने हैं, वही पुल का सुपर स्ट्रक्चर लोहे का बना है. गौरतलब है कि पुल के जीर्णोद्वार कार्य के पूर्व आईआईटी रुड़की की टीम ने पुल के सभी पायो को पूरी तरह मजबूत और सुदृढ़ पाया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here