बिहार महागठबंधन में कोऑर्डिनेशन कमिटी बनाने को लेकर मांझी ने दिया एक और अल्टीमटम

0
285

बिहार इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर अब राजनीति पूरी तरह से तेज हो गई है. हर कोई अपनी अपनी गोटियां सेट करने में लगा है. अपने पंसद की पार्टी का चुनाव किया जा रहा है. इधर बिहार महागठबंधन में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. महागठबंधन में समन्वय समिति बनाने को लेकर हम प्रमुख जीतन राम मांझी ने एक और अल्टिमेटम दिया है. पार्टी की आज हुई बैठक के बाद यह निर्णय लिया गया है कि महागठबंधन में अगर एक सप्ताह के अंदर कोई कोऑर्डिनेशन कमिटी बनती है तो ठीक है नहीं मांझी की पार्टी स्वतंत्र हैं.

निर्धारित कार्यक्रम के तहत पार्टी की कोर कमिटी की मीटिंग पटना में बुलाई गई थी, जिसमें मौजूदा राजनीतिक माहौल और महागठबंधन में बने रहने और नहीं रहने को लेकर फैसला होना था. मीटिंग के बाद पार्टी की तरफ से मांझी को ही अगले कदम के लिए अधिकृत कर दिया गया है. आपको बता दें कि कि 24 जून को हुई वर्चुअल मीटिंग में एक हफ्ते के अंदर महागठबंधन में कोऑर्डिनेशन कमिटी बनाने की बात कही गई है इस आधार पर हम ने दो दिन बीत जाने की बात कही है उसके बाद आगे के पांच दिन और इंतजार करने को कहा है.

तेजस्वी यादव के उस बयान के बाद से हम पार्टी के नेता नाराज हो गए जिसमें कहा गया था कि जीतन राम मांझी को जगदानंद से इस मामले पर बात करनी चाहिए थी. इसके बाद हम ने जगदानंद से बात करने के लिए फतुंहा के प्रखंड अध्यक्ष राजन राज का नाम बताया है. इस पूरे मामले के बाद से महागठबंधन में तना तनी की स्थिति बनी हुई है. सुत्रों की माने तो यह भी बताया जा रहा है कि जीतन राम मांझी जदयू और बीजेपी के संपर्क में है. कहा तो यह भी जा रहा है कि अगर महागठबंधन में उनकी बात नहीं मानी जाती है तो वे एनडीए का दामन थाम सकते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here