मांझी का बड़ा आरोप, लालू खानदान ने ले ली रघुवंश प्रसाद की जान

0
294

पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद के निधन के बाद सियासी गलियारों में एक बार फिर से बड़ा आरोप का सिलसिला चालू हो गया है. रघुवंश प्रसाद के गुजर जाने के बाद सियासत में हड़कंप मची है और मंत्री और राजीनीतिक पार्टी में शोक की लहर हैं। इस सब के बीच पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने सनसनीखेज बयान देते हुए लालू खानदान पर बड़ा आरोप लगया है.

दरअसल कद्द्वार नेता रघुंवश प्रसाद के निधन का आरोप लालू परिवार पर लगाया जा रहा है. महागठबंधन में शामिल हम प्रमुख जीतन राम मांझी ने राजद से मतभेद होने पर अलग राह चुन ली. रालोसपा के प्रवक्ता अभिषेक झा ने भी राजद के वजह से पार्टी से यह कहते हुए इस्तीफा दे दिया कि ऐसा लगता है मानो मौजूदा राजनीति 9 वीं पास या फेल के दरवाजे पर मुंह जोट रही है। इसकी सबसे बड़ी वजह यह रही है कि उपेंद्र कुशवाहा चुनावी मैदान में उतरने के लिए सीट को लेकर मुंह ताक रहे हैं. इन तमाम बातों में व्यक्तिगत हित और चुनावी रणनीति दिखती है। बिहार के सियासत में हिस्सेदारी की चाह महागठबंधन और राजद से मतभेद को मंजूरी देती है लेकिन 32 वर्षों तक लालू प्रसाद के साथ देने वाले नेता जिनका न केवल राजद में सम्मान हैं बल्कि पूरी पार्टी उनके सामने नतमस्तक हैं, उन्होंने आहत होकर राजद से इस्तीफा दे दिया और परिवारवाद के खिलाफ अपने पत्र में जिक्र भी किया है जो यह साफ करती है वे राजद के कार्यशैली और नेतृत्व से कितने खफा हैं.

इस सब के बीच जीतन राम मांझी ने लालू परिवार के इस बयान को आधार बनाते हुए वार किया है कि रघुवंश प्रसाद की जान लालू परिवार के वजह से गया है. विधानसभा चुनाव की तैयरियों को लेकर पार्टी कार्यकर्ताओं से मिलने जहानाबाद पहुंचे जहाँ उन्होंने कहा कि रघुंवश प्रसाद के निधन से मैं मर्माहत हूँ और देश के लिए यह अपार क्षति है।
लेकिन दुःख इस बात का है कि इतने तपस्वी और सामजसेवी, जिन्होंने लालू के साथ 32 साल तक साथ रहा, अंतिम समय में लालू खानदान से यह कहा गया कि सागर से एक लोटा पानी बाहर ही हो जायेगा तो क्या हो जायेगा। इस बात से उन्हें चोट पहुंची होगी। यह चोट से रघुववंश बाबू उबर नहीं सके , इसलिए मैं कहता हूँ कि उनका निधन लालू यादव और उनके परिवार के कारण हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here