अपनी प्रेमिका को लाने त्रिनिदाद एंड टौबैगो पहुंचे मटुकनाथ, कहा जूली स्वस्थ है

0
944

प्यार करने की कोई उम्र नहीं होती कब कहा किसके साथ हो जाए यह कहना मुश्किल हैं. पटना में इन दिनों एक बार फिर से मटुकनाथ और जुली के प्रेम कहानी के चर्चे एक बार फिर से मीडिया में दौड़ रहे हैं. कभी प्यार की परिभाषा समझाने वाले मटुकनाथ आज कल अपनी प्रेमिका को लाने के लिए त्रिनिदाद एंड टोबैगो के सेंटगस्टीन तक पहुंच गए हैं. वहां पहुंचने के बाद उन्होंने कहा है कि जुली को लेकर पटना लौटेंगे. जुली पूरी तरह से स्वस्थ है.

हम मटुकनाथ और जूली के प्यार के शुरुआती दिनों को याद करें और उनके त्रिनिदाद एंड टोबैगो जाने और उनके स्वास्थ खराब होने की बात करे तो इसकी शुरुआत साल 2014 में हुई थी. इस पर प्रो. मटुक नाथ कहते हैं कि मैंने जूली को छोड़ा नहीं था बल्कि मैं तो निजी स्वतंत्रता का समर्थक हूं. उन्होंने आगे बताया कि जूली के भीतर वैराग्य की भावना 2014 में दिखने लगा था. वे भजनों पर नृत्य करती थी और चिंतन-मनन में लीन रहती थी. उन्होंने आगे बताया कि साल 2016 में आध्यात्म में डुबकी लगाने के लिए कभी-कभार वृंदावन, होशियारपुर और अन्य धार्मिक स्थानों पर जाया करती थी. उन्होंने कहा कि वे जूली को अध्यात्म के प्रति झुकाव को कभी मना नहीं किया. पर यह भी कहा कि जूली का मानसिक स्वास्थ 2016 के बाद से ही ठीक नहीं रहने लगा था. जूली भगवान की भक्ति और ईश्वर प्राप्ति को लेकर कभी वृंदावन तो कई अन्य जगहों पर वह भ्रमण के लिए जाया करती थी. जब वह भ्रमण के लिए जाती थी तो मटुकनाथ से जूली की बात होती थी. लेकिन कुछ दिनों के बाद दोनों के बीच में बात चीत बंद हो गया. फिर अचानक उन्हें पता चला कि जूली की तबीयत बहुत खराब है और वह त्रिनिदाद एंड टोबैगो में हैं. उन्होंने कहा कि वह जीवित बुद्ध की तलाश में वहां चली गई थी जहां उसकी स्थिति और भी खराब होती चली गई.

इस साल फरवरी में जूली की तबीयत खराब होने की खबर जब मीडिया में छपी तो उसके बाद से मटुकनाथ अपने आप का बचाव करते दिखे. भोजपुरी की गायिका देवी ने इस मामले को प्रमुखता से मीडिया के सामने लाया. मीडिया में उनकी खबर प्रमुखता से छापने के बाद अब मटुक नाथ कहते हैं कि उनके प्रति शत्रु भाव रखने वाले लोगों ने ऐसा प्रचारित करने की कोशिश की लेकिन जूली को वापस लाने पर उनका जवाब उन्हें मिल जाएगा. वे अपने शुभचिंतकों को बताना चाहते हैं कि जूली अब चल-फिर रही है. खाना-पीना सामान्य हो चुका है और जल्द ही पटना में रहकर स्वास्थ्य लाभ करेंगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here