कीर्ति नारायण मंडल : एक ऐसा शख्स जिन्होंने अपनी करोड़ों की सं’पत्ति दान कर दी शिक्षण संस्थानों की स्थापना में…

0
679

कोशी व सीमांचल के क्षेत्र में शिक्षा का अलख जगाने वाले कोशी के मालवीय कीर्ति नारायण मंडल की जयंती बुधवार को मधेपुरा के टीपी कॉलेज में धूमधाम से मनाई गई। उनके जन्मो-त्सव पर महाविद्यालय परिसर में कई कार्यक्रम आयोजित किए गए थे। कार्यक्रम का उद्धाटन भूपेंद्र नारायण मंडल विश्वविद्यालय (BNMU) के कुलपति डॉ. अवध किशाेर राय ने किया।

इस अवसर पर उन्होंने कहा कि की’र्ति नारायण मंडल न केवल कोसी एवं बिहार, बल्कि पूरे देश के विभूति हैं। इन्होंने शिक्षा के उन्नयन में जो दिया है, वह अद्वितीय है। विश्व इतिहास में कीर्ति बाबू जैसा कोई दूसरा उदाहरण नहीं है। कुलपति ने कहा कि कीर्ति बाबू का योगदान पंडित मदन मोहन मालवीय से भी बड़ा है। मालवीय जी ने दान में धन प्राप्त कर बनारस हिंदू विश्वविद्यालय की स्थापना की थी। कीर्ति नारायण मंडल ने अपनी सारी संपत्ति दान देकर कई महाविद्यालयों की स्थापना की।

कुलपति ने बताया कि कीर्ति बाबू ने 1953 में 50 बीघा जमीन दान देकर अपने पिता के नाम पर ठाकुर प्रसाद महाविद्यालय की स्थापना की। फिर करोड़ों की संपत्ति दान देकर अपनी माता के नाम पर पार्वती विज्ञान महाविद्यालय की भी स्थापना कराई। साथ ही कई अन्य महाविद्यालयों की स्थापना में भी महती भूमिका निभाई। जब तक इस धरती पर लोग हैं, हम कीर्ति बाबू को याद करते रहेंगे।

इसके पूर्व कुलपति ने कीर्त विज्ञान परिसर में कीर्ति बाबू की प्रतिमा का अनावरण किया। इसके अलावा रतनचंद द्वार का अनावरण और स्मार्ट क्लास एवं आईक्यूए आॅफिस का उद्घाटन भी किया। मालूम हो कि कीर्ति नारायण मंडल (1916-1997) का जन्म 1916 में मधेपुरा जिले के मनहरा गांव में हुआ था। कुलपति ने कहा कि हम नियमित रूप से कक्षा में आएं। विद्यार्थी और शिक्षक शिक्षा का महत्व समझें। यही कीर्ति बाबू को हमारी सबसे बड़ी श्रद्धांजलि होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here