मैसेजिंग की दुनिया में इस कंपनी की फिर से हो रही है एंट्री, Whatapp के लिए परेशानी

0
635

स्मार्टफोन्स और इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप्स के आने से पहले यूजर्स SMS का इस्मेमाल करते थे. तब इंटरनेट का इतना बहुल नहीं हुआ करता था. आज जब इंटरनेट की दुनिया है तो ऐसे में स्मार्टफोन और वाट्सअप के माध्यम से लोग अपने परिवार से कनेक्ट रहते हैं. अमेरिका की चार बड़ी कंपनियां अब धीरे-धीरे टेक्स्ट मैसेज की दुनिया में अपना पैर पसार रही है. ये चार कंपनियां है AT&T, SPRINT, T-MOBILE, VERIZON ने SMS को वापस लाने के लिए पार्टनरशिप कर ली है. ये सभी कंपनियां RCS यानि कि रिच कम्मयूनिकेशन सर्विस बेस्ड इकोसिस्टम पर मैसेजिंग शुरु करने के बारे में सोच रही है. मैसेज को रिसीव करने के लिए मोबाइल डेटा या वाई-फाई का इस्तेमाल होगा. माना जा रहा है कि आने वाले कुछ दिनों में यह वाट्सऐप को भी टक्कर दे सकता है.

RCS बेस्ड SMS सर्विस को लेकर काफी समय से बातचीत चल रही थी. गूगल भी इसकी शुरुआत के लिए काफी दबाव बना रहा था, लेकिन इस दिशा में कभी ज्यादा काम नहीं हुआ. हालांकि, अब इन चारों कंपनी ने साझेदारी में क्रॉस कैरियर मेसेजिंग इनिशिएटिव (CCMI) शुरू करने की दिशा में पहला और जरूरी कदम उठा लिया है. दावा किया जा रहा है कि इससे यूजर्स को नेक्स्ट जेनरेशन मेसेजिंग का एक्सपीरियंस मिलेगा. उम्मीद की जा रही है कि अगले साल तक यह सर्विस ऐंड्रॉयड डिवाइसेज के लिए शुरू हो जाएगी।

वॉट्सऐप की पैरंट कंपनी फेसबुक पर यूजर्स के डेटा को लीक करने के कई गंभीर आरोप लगे हैं. ऐसे में इस बात काफी संभावना है कि नई एसएमएस सर्विस के आने से यूजर्स को वॉट्सऐप का एक अच्छा विकल्प भी मिलेगा.
क्या नया होगा RCS में

  • आरसीएस के कारण यूजर 8000 कैरेक्टर के मेसेज भेजने की सहूलियत मिलेगी. पहले एसएमएस की कैरेक्टर लिमिट केवल 160 थी.
  • यूजर्स को वॉट्सऐप की तरह ही रीड रिसीट मिलेगी और वे यह भी जान पाएंगे की सामने वाला यूजर कब टाइप कर रहा है.
  • आरसीएस के कारण एसएमएस में फोटो और विडियो भी भेजे और रिसीव किए जा सकेंगे.
  • वॉट्सऐप की तरह यूजर इसमें ग्रुप भी बना सकेंगे. इसमें ग्रुप मेंबर्स की अधिकतम सीमा 100 होगी.

इस ऐप को शुरू करने के लिए सभी टेलिकॉम कंपनियों को RCS चैट ऐप डिवेलप करना होगा। कंपनी ने इसे तैयार करने के जरूरी प्रक्रियाएं शुरु कर दी है. भारत में इसे लॉन्च किए जाने को लेकर अभी स्थिति साफ नहीं हुई है. वहीं, आरसीएस बेस्ड एसएमएस वॉट्सऐप की तरह एंड-टू-एंड सब्सक्रिप्शन देगा या नहीं इस बारे में भी अभी कोई जानकारी नहीं दी गई है. इसके साथ ही वॉट्सऐप जैसे पॉप्युलर ऐप को छोड़ यूजर्स को एसएमएस इस्तेमाल करने के लिए लुभाना भी उतना आसान नहीं होगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here