लॉकडाउन में प्रवासी मजदूरों का था मसीहा, कोरोना ने ले ली जान

0
422

दिल्ली से कोरोना वायरस को लेकर बड़ी खबर सामने आ रही है. यह पूरा मामला एक ऐसे शख्स की मौत के साथ जुड़ा है जो गरीब असहाय लोगों की मदद करते करते इस दुनिया को अलविदा कह गया. यह युवक लॉकडाउन के दौरान पलायन कर रहे लोगों को तीन महीने तक फ्री में भोजन करा रहा था. तीन महीने के बाद उसे कोरोना हो गया. और उसकी जान चली गई. इसक युवक का नाम अरुण सिंह है. मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार प्रतिदिन प्रवासी मजदूरों को वह खाना खिलाता था.

लोगों की मदद कर रहा यह युवक जुलाई में अचानक से बीमार हो गया. जब उसकी जांच कराई गई तो उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई. उसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया. सोमवार को वह युवक द्वारका के वेंकटेश्वर हॉस्पिटल में दम तोड़ दिया. उसके दो बच्चे हैं बेटा अभी 9 वी कक्षा में हैं तो वहीं एक बेटी है जो 12 वीं की इस बार परीक्षा दी है.

अरुण की मौत की खबर सुनकर द्वारका के सब डिविजनल मजिस्ट्रेट चंदर शेखर ने कहा कि अरुण सिंह हमारे सबसे अहम कर्मियों में से एक थे. उनकी सोच हमेशा लीक से हटकर कुछ अलग करने की थी. उनका कार्य बेहतरीन था. हम उन्हें जो भी कार्य सौंपते थे, उसे वह पूरे विश्वास के साथ करते थे. फिर चाहे वो खाना बांटना हो या कंटेनमेंट जोन के अंदर काम करना हो, वह हर काम में अपना हंड्रेड परसेंट देते थे. उनकी मौत से हम सभी को निजी तौर पर भारी नुकसान हुआ है. जिसकी भरपाई नहीं की जा सकती.

स्त्रोतः-https://newstrack.com/india/arun-singh-delhi-lockdown-coronavirus-624979.html

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here