प्रदेश लौटने लगे प्रवासी श्रमिक, रेलवे ने चलाई स्पेशल ट्रेन

0
185

कोरोना महामारी का कहर एक बार फिर से पूरे देश में कोरोना के मामलों में वृद्धि देखी जा रही है. आपको बता दें कि इन दिनों महाराष्ट्र में कोरोना के मामलों में सबसे ज्यादा वृद्धि देखी गई है. ऐसे में महाराष्ट्र में कोरोना के मामलों को देखते हुए एक बार फिर से वहां रह रहे बिहार के लोग अपने अपने घरों के तरफ लौटने लगे हैं. इसे देखते हुए भारतीय रेलवे मुबई और पुणे से स्पेशल ट्रेन चलाने जा रही है. यात्रियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए भारतीय रेलवे ने मुंबई से पटना और दरभंगा के साथ पुणे से दानापुर के लिए अतिरिक्त स्पेशल ट्रेन चलाने का फैसला किया है. हालांकि इन स्पेशल ट्रेनों में सिर्फ यात्री सफर कर सकेंगे जिनके पास रिजर्व सीट होगी.

आइए एक नजर डाल लेते हैं ट्रेनों के टाइम टेवल पर

01401 सुपरफास्ट विशेष ट्रेन पुणे से 9, 11, 16 18 अप्रैल को शाम को 4 बजकर 15 मिनट पर खुलेगी. यह ट्रेन अगले दिन रात को 11 बज कर 45 मिनट पर दानापुर पहुंचेगी.

01402 विशेष ट्रेन दानापुर से 11, 13, 18 20 अप्रैल को सुबह के 04:00 बजे खुलेगी. और यह अगले दिन 12.05 बजे पुणे पहुंचेगी.

01092 विशेष ट्रेन पटना से 13, 16 20 अप्रैल को शाम को चार बज कर 20 मिनट पर प्रस्थान करेगी. वहीं यह ट्रेन अगले दिन रात को 11 बजकर 30 मिनट पर छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस पहुंचेगी.

01097 सुपरफास्ट विशेष लोकमान्य तिलक टर्मिनल मुंबई से 12 19 अप्रैल को सुबह के 08.05 बजे खुलेगी और अगले दिन शाम को 4 बज कर 10 मिनट पर दरभंगा पहुंचेगी.

01098 सुपरफास्ट विशेष ट्रेन दरभंगा से 13 20 अप्रैल को 7 बज कर 20 मिनट पर खुलेगी और अगले दिन सुबह 05:10 बजे लोकमान्य तिलक टर्मिनल मुंबई पहुंचेगी.

आपको बता दें कि पूरे देश में मुंबई में कोरोना के मामलों में सबसे ज्यादा वृद्धि है. और इन ट्रेनों का परिचालन भी महाराष्ट्र के कई शहरों से हो रहा है. ऐसे में बिहार सरकार इन ट्रेनों को लेकर अलर्ट मोड मे आ गई है. आपको बता दें कि मंगलवार को नीतीश कैबिनेट की हुई बैठक में सीएम नीतीश कुमार ने जिलों के जिलाधिकारी और एसपी के साथ मीटिंग करके हर प्रखंड में फिर से एक बार क्वारंटाइन सेंटर बनाने का निर्देश दिया है, ताकि इन राज्यों से आ रहे लोगों को वहां रखा जा सके. सरकार एक बार फिर से अलर्ट मोड में दिख रही है. आपको बता दें कि बिहार में एक तरफ जहां क्वारंटीन सेंटर बनाने की बता कही गई हैं वहीं बिहार सरकार ने यह भी कहा है कि फ्रंट लाइन बर्कर की कोरोना जांच की जाए. अगर उनमें उनमें कोरोना के मामलों की पुष्ट्री होती है तो ऐसे में परिवार के लोगों की भी कोरोना जांच करने की बात कही गई है. ऐसे में हम कह सकते हैं कि बिहार में जिस तरह से कोरोना के मामलों में वृद्धि देखी गई है. इससे बिहार सरकार अलर्ट मोड में आ गई है. नीतीश कुमार ने अपनी बैठक में आपदा प्रबंधन विभाग को अलर्ट मोड रखा है. इसके साथ ही प्रदेश में सभी स्वास्थ्य कर्मियों की छुट्टी 31 मई तक के लिए रद्द कर दी गई है.

कोरोना वायरस को लेकर बिहार सरकार ने पहले ही कह दिया है कि ट्रेन, बस और हवाई जहाज से बिहार आने वाले लोगों की कोरोना जांच की जाए. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि जिनमें करोना के लक्षण नहीं है वे एक सप्ताह तक के लिए होम क्वारंटिन में रहे इसके साथ ही जिन्हें कोरोना के लक्षण दिखाई देते हैं या फिर पॉजिटिव पाए जाने पर उन्हें क्वारंटिन सेंटर पर भेजे जाने की बात कही गई है. ऐसे में अब बिहार सरकार कोरोना को लेकर पूरी तरह से एक्शन के मोड में आ गई है. हालांकि बिहार सरकार ने कोरोना को लेकर कोई बड़ा एक्शन लिया है. क्योंकि पिछली कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए बिहार सरकार ने कई तरह की बंदिशें लगाई थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here