बिना हेलमेट और बीमा के बावजूद पुलिस नहीं काट रही चालान, जानिए क्या है वजह…

0
1166

वाहन नियम लागू होने के बाद से सतर्कता और सावधानी बरती जाने लगी है। इसी मामले में बिहार में पुलिस कर्मचारियों की गांधीगिरी का मामला प्रकाश में आया है। मोतिहारी शहर में पुलिस द्वारा चालान काटने के बजाय उन्हें गलती सुधारने का मौका दे रही है। बिहार के मोतिहारी में हेलमेट या बीमा नवीनीकरण के मामले में जिन लोगों के पास हेलमेट नहीं है अथवा जिनका बीमा खत्म हो चुका है उन्हें गलती सुधारने का मौका दिया जा रहा है। पुलिस ने जाँच चौकियों पर हेलमेट खरीदने और वाहन बीमा नवीनीकरण करवाने की व्यवस्था कर दी है।

पूर्वी चम्पारण जिले के मोतिहारी जिले में छतौनी थाना के एसएचओ मुकेश चंद्र कुंवर ने यह जानकारी दी है कि हेलमेट विक्रेताओं से बात करके स्टॉल लगवा दिए गए हैं और वाहन नवीनीकरण करवाने की व्यवस्था कर दी गयी है, सवारियों पर जुर्माना नहीं लगाया जा रहा है। इस अभियान के पीछे यह तर्क दिया है कि इससे उन्हें यह महसुस होता है कि वे अपराधी हैं। इसके बजाय इस बात पर प्रोत्साहन दिया जा रहा है कि वे हेलमेट ख़रीदे और बीमा नवीनीकरण करवाए। इस कार्य के पीछे का उद्देश्य यह बताया जा रहा है कि जनता के बीच ये बात तेजी से फैलता जा रहा है, ” इस बहाने से पुलिस को जबरन पैसा वसूल करने का छूट मिल गया है।” पुलिस व्यवस्था के लिए जनता की इस तरह की धारणा हानिकारक है। उन्होंने जिला परिवहन विभाग से एक अधिकारी को भी तैनात करने का अनुरोध किया है, ताकि बिना लाइसेंस के गाड़ी चला रहे लोगों को मौके पर ही लर्नर लाइसेंस की प्राप्ति हो जाये। उन्होंने आगे यह भी कहा है, सद्भावना के आधार पर सभी अपराधों को माफ़ नहीं किया जा सकता है। शराब की नशे या प्रभाव में पाया जाने वाले पर कानून के मुताबिक करवाई की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here