नेपाल ने फिर से बिहार के इस क्षेत्र को बताया अपना, रोका बांध का काम

0
321

भारत और चीन के बीच चल रहे सीमा विवाद के बीच में अब नेपाल ने भी भारत की सीमा पर आंख तरेरनी शुरू कर दी है. न्यूज एजेंसी PTI की माने तो नेपाल ने बिहार के पूर्व चंपारण जिले की 500 मीटर जमीन पर अपना दावा पेश किया है. आपको बता दें कि भारत सरकार द्वारा इस इलाके में एक बांध का निर्माण कराया जा रहा है. जिसे नेपाली फोर्स ने नो मेंस लैंड का दावा करते हुए रोक दिया है. इधर पूर्व चंपारण के डीएम ने इस मामले में आपत्ति जताते हुए इसकी रिपोर्ट भारत सरकार को सौंप दी है.

न्यूज एजेंसी की माने तो पूर्वी चंपारण के ढाका अनुमंडल स्थित बलुआ गुआबारी पंचायत के पास लालबकेया नदी पर बांध की मरम्‍मत का काम रुकवा दिया है. नेपाल का कहना है कि यह बांध लालबकेया नदी पर पहले से ही है. इस घटना से नेपाल व भारत में नया तनाव पैदा हो गया है. भारत के एसएसबी के जवानों ने भारत-नेपाल सीमा के बारे में बताते हुए कहा है कि भारत नेपाल सीमा पर पीलर संख्या 345/5 और 345/7 के बीच में 500 मीटर की जमीन को लेकर विवाद चल रहा है. बताया गया है कि अब तक इस विवाद का निपटारा दोनों तरफ के अधिकारियों की बैठक से पूरी हो जाती थी लेकिन इस बार तनाव की स्थिति उत्पन्न हो गई है.

इधर सिंचाई विभाग का कहना है कि लालबकेया नदी का पश्चिमी बांध 2017 में आयी बाढ़ से टूट गया था. इसकी मरम्मत पर नेपाल ने आपत्ति जताई है. जिसके बाद काम रोक दिया गया. बताया जा रहा है कि अगर यह बांध बंध जाता है तो ढाका और पताही में बाढ़ की रोकथाम करना संभव होगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here