टॉम लैथम, केन विलियमसन ने एकतरफा बनाया मैच, भारत को न्यूजीलैंड ने 7 विकेट से हराया

0
1679

भारतीय टीम को न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले वनडे मैचों में एकतरफा हार का सामना करना पड़ा है। टॉम लैथम के शतक और कप्तान केन विलियमसन की बेहतरीन पारी के दम पर न्यूजीलैंड ने भारत के द्वारा दिए 307 रनों के लक्ष्य को बिना किसी मुश्किलों के हासिल कर लिया और 7 विकेट से जीत दर्ज की। टीम इंडिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवरों में 306 रनों का विशाल लक्ष्य खड़ा किया। भारत की ओर से श्रेयस अय्यर ने सर्वाधिक 80 रन बनाए। न्यूजीलैंड की शुरुआत तो खराब रही मगर टॉम लैथम के नाबाद 145 रन और कप्तान विलियमसन के नाबाद 94 रनों की पारी के बदौलत न्यूजीलैंड ने 47.1 ओवर में ही तीन विकेट खोकर लक्ष्य को हासिल कर लिया। भारत की ओर से उमरान मालिक ने दो विकेट हासिल किए। इसी के साथ न्यूजीलैंड ने तीन मैचों की वनडे सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली है।

भारतीय गेंदबाज़ी में नहीं नजर आई धार

भारतीय टीम में खिलाड़ियों की इतनी ज्यादा भरमार हो गई है। कि कोच और कप्तान के लिए यह एक नया चैलेंज हो गया है कि किसे खिलाए और किसे नहीं? भारतीय टीम की प्लेइंग इलेवन एक बार फिर कटघरे में खड़ी है। टीम इंडिया आज पांच गेंदबाजों के साथ उतरा था। भारत की यह स्ट्रेटजी सभी के समझ के परे है। शुरुआती स्पैल में प्रभावशाली रहे भारतीय गेंदबाज एक बार फिर मिडिल ओवर में विकेट चटकाने में नाकामयाब हुए। एक वक्त न्यूजीलैंड का स्कोर 88 रनों पर तीन विकेट था मगर विलियमसन और लैथम ने साथ मिलकर दोहरी शतकीय साझेदारी रच डाली। भारत इसके बाद एक भी विकेट लेने में कामयाब नहीं हो पाए अंत में न्यूजीलैंड ने बड़े आराम से इस रन चेस को अंजाम दिया। लैथम ने बिना ज्यादा जोखिम उठाए 104 गेंदों पर 145 रनों ठोक डाले। कप्तान केन ने भी 98 गेंदों पर नाबाद 94 रन बनाकर एक और क्लास पारी को अंजाम दिया। विलियमसन ने इसी के साथ आलोचकों को करारा जवाब भी दिया हैं। वह अभी भी वनडे और टेस्ट के दमदार खिलाड़ी है। टी 20 में अभी उनकी फॉर्म थोड़ी कमजोर जरूर रही है।

भारत की ओर से डेब्यू कर रहे उमरान मालिक ने रफ्तार का कहर बरपाया और 10 ओवरों में 66 रन देकर 2 विकेट हासिल किए वही शार्दुल ठाकुर को एक विकेट हासिल हुआ।

भारतीय बल्लेबाज अच्छी शुरुआत को एक विशाल स्कोर में नहीं परिवर्तित कर पाए। शुभमन गिल और कप्तान शिखर धवन ने भारत के लिए एक और शतकीय शाझेदार रच डाली। धवन ने 72 तो गिल ने 50 रन बनाए। मगर ऋषभ पंत और सूर्यकुमार यादव के जल्दी आउट होने के बाद भारतीय पारी थोड़ी लड़खड़ाई, फिर श्रेयस अय्यर ने 80 रनों की पारी खेली। मगर अच्छी शुरुआत के बाद भारतीय भी टीम अंत में लड़खड़ा गई। अगर वॉशिंगटन सुंदर अंत के ओवरों में आतिशी पारी नहीं खेलते तो भारत का 280 रनों तक पहुंचना भी मुश्किल हो जाता। सुंदर ने अतिसुंदर पारी खेलते हुए आखिरी ओवरों में 16 गेंद में 37 रन की नाबाद आक्रामक पारी खेल टीम के स्कोर को 300 के पार पहुंचाया। भारत अभी भी सीरीज में वापसी कर सकता है। मगर उन्हें अपनी गेंदबाजी में सुधार करने की जरूरत है। साथ ही जो बल्लेबाज सेट हो जाए उनसे थोड़े और आक्रामक अंदाज की उम्मीद रहेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here