कभी बिना बहुमत, 07 दिनों के लिए सीएम बन गए थें नीतीश ,सोनिया गांधी ने बिगाड़ा खेल

वर्ष 2000 का बिहार विधानसभा चुनाव के घटनाक्रम से आज की युवा पीढ़ी अनजान होगी. विशेष तौर पर जिसे राजनीति में रुचि अपेक्षाकृत कम है, उसे पता भी नहीं होगा कि इस चुनाव में महज 07 दिनों के लिए नीतीश कुमार बिहार के सीएम बनें थें.

हालात ऐसे बनें कि सीएम बनने के 07 दिन के भीतर ही नीतीश कुमार को इस्तीफा देना पड़ा लेकिन इसी दौर में नीतीश कुमार ने यह ठान लिया था कि अब उनकी मंजिल बिहार के मुख्यमंत्री की कुर्सी है और वो भी लंबे समय के लिए. होता भी यही रहा है. हर परिस्थिति में नीतीश कुमार ही पिछले तीन चुनाव से बिहार की राजनीति के सबसे बड़े सुपर स्टार साबित होते जा रहे हैं.

Presidential election 2017: Nitish Kumar meets Sonia Gandhi, calls ...

163 सीटें चाहिए थी सरकार बनाने के लिए

2000 में विधानसभा चुनाव के जब नतीजे आएं तो राष्ट्रीय जनता दल सबसे बड़े दल के रुप में उभरी. 324 सदस्यीय विधानसभा में 163 सीटों की जरुरत थी. इसमें अकेले राजद को 124 सीटें मिली यानी कि बहुमत से 41 सीटें कम थी.

अटल जी आपने जो मुझे सिखाया- उसका पालन ...

वहीं भारतीय जनता पार्टी को 67, नीतीश कुमार की तत्कालीन पार्टी समता पार्टी को 34, जदयू को 21 सीटें मिली थी. इन तीनों के सीटों का जोड़ 122 आ रहा था. त्रिशंकु की स्थिति थी लेकिन चूंकि केंद्र में एनडीए की सरकार थी तो अपनी ताकत का दुरुपयोग करते हुए वाजपेयी सरकार के इशारे पर गर्वनर ने नीतीश कुमार को शपथ दिला दी लेकिन ऐन वक्त पर कांग्रेस ने राजद के समर्थन का ऐलान कर दिया था.

कांग्रेस, बसपा और वामदलों की मदद से राजद सरकार

Stitch up differences, keep BJP out, Sonia Gandhi tells Nitish ...

कांग्रेस को इस चुनाव में 23 सीटें मिली थी. बसपा को 05, झारखंड मुक्ति मोरचा को 12, कम्युनिस्ट पार्टियों को 13 सीटें मिली थीं. इनका जोड़ 53 होता था. सोनिया गांधी के इशारे पर बिहार कांग्रेस ने राजद को समर्थन का ऐलान कर दिया. कांग्रेस के ऐलान के बाद छोटी पार्टियों का समर्थन भी राजद को मिल गया और संख्या बल के आगे नीतीश कुमार को सरेंडर करना पड़ गया और इस तरह से 07 दिनों के भीतर नीतीश कुमार को त्याग पत्र देना पड़ गया और बिहार में एक बार फिर राजद की सरकार बन गई. राबड़ी देवी बिहार की नई मुख्यमंत्री बन गईं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here