RJD ने दिया नितीश कुमार को ऑफर , भाजपा को रोकेंगे साथ मिलकर

0
1379

लोकसभा में करारी हार क बाद महागठबंधन में सियासी बोल और तेज हो गए है . एक तरफ बिहार के पूर्व CM जीतन राम मांझी से CM नीतीश कुमार की मुलाकात होती है तो वही अगले ही दिन राजद के उपअदक्ष्य ने भी जदयू प्रमुख को खुला ऑफर दे दिया है.

राजद पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुबंश प्रसाद सिंह ने कहा कि वर्ष 2020 में बिहार विधानसभा चुनाव में अगर हमें जीत हासिल करनी है और बीजेपी को बिहार से बहार करना है तो हर हाल में सभी गैर भाजपाई पार्टियों को एकजुट एक मंच पर आना होगा. इसके साथ ही रघुवंश प्रसाद सिंह ने यह भी कहा कि इन गैर भाजपाई पार्टियों में नीतीश कुमार की पार्टी भी शामिल हैं. नीतीश कुमार कब किसका साथ छोड़ दें और किससे हाथ मिला लें यह कोई नहीं कह सकता.

टिकट बटवारे में हुई गलती

रघुवंश प्रसाद सिंह ने महागठबंधन के हार के कारणों के जवाब में टिकट के बंटवारे में हुई गलती पर सवाल उठाया और कहा कि महागठबंधन में सीटों का बंटवारा सही तरीके से नहीं हो पाया. उन प्रत्याशियों को भी मैदान में उतारा गया जो विरोधी दाल के मुकाबले बहुत कमजोर थे.टिकट बटवारे से लेकर किसी तरह का कोई योजना नहीं बनाया था और न ही किसी प्रत्याशी के नेतृत्व के लिए कोई प्रोग्राम बना

सवर्ण आरक्षण बिल का विरोध करना पड़ा महंगा

रघुवंश प्रसाद ने कहा कि पार्टी के नेताओं को सवर्ण आरक्षण बिल का विरोध करना भी भारी पड़ा. सवर्ण आरक्षण बिल के विरोध का फैसला हमारे लिए गलत था. इसके साथ ही देश-प्रदेश स्तर पर कई बड़ी के साथ साथ चूक हुई भी है, जिसका जवाब सभी दलों को देना पड़ेगा . महागठबंधन के आरजेडी ने अपने कुल 20 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे थे, जिसमें से एक भी सीटों पर उन्हें जीत नहीं मिली. वैशाली सीट से खुद रघुवंश प्रसाद सिंह चुनावी मैदान में थे, लेकिन उन्‍हें भी हार का सामना करना पड़ा . इस हार के बाद दबी जुबान से ही सही राजद के कई नेताओं ने पार्टी के नेतृत्व से लेकर टिकट बंटवारे तक को सवालो के कटघरे में ला दिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here