नीतीश कुमार ने सुशील कुमार मोदी को रखा अपने साथ, विधान परिषद में मिला यह बड़ा पद

0
309

बिहार में नई सरकार का गठन हो गया है. नीतीश कुमार सातवीं बार मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली है. लेकिन इस बार उनके साथ उप मुख्यमंत्री के रूप में सुशील कुमार मोदी नहीं थे. इस बीजेपी के ही नेता तारकिशोर प्रसाद और रेणु देवी ने उप मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लिया है. शपथ समारोह समाप्त होने के बाद जब पत्रकारों ने नीतीश कुमार से जब सुशील मोदी के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि मैं सुशील जी को मिस करुंगा. राजनीतिक गलियारों में यह हलचल तेज हो गई की अब दो दोस्त अलग हो गए हैं लेकिन नीतीश कुमार ने एक बार फिर से दोस्ती निभाई और सुशील मोदी को नई जिम्मेदारी सौंप कर उन्हें अपने साथ ही रखने की व्यवस्ता कर ली.

नीतीश कुमार ने सुशील कुमार मोदी के साथ ही जदयू के नेता और पूर्व जल संसाधन मंत्री संजय झा को विधान भवन में ठिकाना मुहैया करा दिया है. विधान परिषद के दोनों वरिष्ठ सदस्यों को अलग-अलग समितियों का अध्यक्ष बनाया गया है. पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी को अचार समिति का अध्यक्ष बनाया गया है तो वहीं पूर्व मंत्री संजय झा को याचिका समिति की जिम्मेदारी दी गई है.

इसको लेकर जानकारी देते हुए विधान परिषद के कार्यकारी सभापति अवधेश नारायण सिंह ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिया है. आपको यह भी बता दें कि ये दोनों समितियां विधान परिषद की स्थाई है और महत्वपूर्ण समितियां है. इनका काम विधानसभा सत्र के दौरान विधानमंडल के किसी सदस्य या अधिकारियों के खिलाफ काम में किसी प्रकार की लापरवाही की शिकायत होने पर आचार समिति के अध्यक्ष की यह जिम्मेदारी होती है.

आपको बता दें कि जब बिहार के मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी को बनाया गया था तब आचार समिति के अध्यक्ष नीतीश कुमार को बनाया गया था. इससे पहले आचार समिति के अध्यक्ष पूर्व शिक्षा मंत्री पीके शाही और विधान परिषद के पूर्व वरिष्ठ सदस्य रामबचन राय रह चुके हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here