अब निजी अस्पतालों में भी होगा कोरोना का इलाज, जानिए क्या क्या मिलेगी सुविधा

0
87

बिहार में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में तेजी सेवृद्धि हो रही है. अब निजी अस्पतालों में भी कोरोना मरीज इलाज करा सकते हैं. कोरोना मरीजों के इलाज के लिए इच्छुक निजी अस्पताल सिविल सर्जन कार्यालय में आवेदन दे सकते हैं. मरीज निजी अस्पतालों में अपने मानक के हिसाब से इलाज करा सकते हैं. इधर पटना जिलाधिकारी ने कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए निजी अस्पतालों में प्रतिनिधियों के साथ बैठक की और आवश्यक निर्देश दिया है. जिलाधिकारी ने निजी अस्पतालों को आगे आने को कहा है.

डीएम कुमार रवि ने कहा है कि कोरोना मरीजों के लिए निजी अस्पतालों में कुल बेड के 20 से 25% आरक्षित आइसोलेशन वार्ड के रूप में रखने और किसी भी मरीज को इलाज से मना नहीं करने को कहा. उन्होंने कहा कि जो अस्पताल उपयुक्त होगा उसे इंडियन किट भी उपलब्ध कराई जा सकती है. उसके उपरांत पॉजिटिव मरीज को आइसोलेशन वार्ड और नेगेटिव पेशेंट को जनरल वार्ड में रखा जा सकता है.

प्रदेश में कोरोना के बढ़ते मामलो को देखते हुए राज्य सरकार की तरफ से तीन तरह की व्यवस्था बनाई है जिसमें हला होम आइसोलेशन एवं उसकी निगरानी दूसरा माइल्ड सिंप्टोमेटिक मरीजों के लिए कोविड केयर सेंटर जिला एवं अनुमंडल स्तर पर एवं कोविड केयर हॉस्पिटल जिला स्तर पर बनाया गया है. तीसरा डेडीकेटेड कोविड-19 एनएमसीएच पीएमसीएच एवं एम्स में बनाया गया है.

निजी अस्पताल को कोविड के इलाज को लेकर कहा गया है कि कोविड-19 के मरीजों के इलाज के लिए इच्छुक निजी अस्पताल सिविल सर्जन कार्यालय में आवेदन दें और सेवा भाव से मरीजों का इलाज करें. सिविल सर्जन कार्यालय में आवेदन देने तथा कोविड-19 से संबंधित प्रोटोकॉल का पालन करना होगा. इसके साथ ही स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी ऑनलाइन पॉर्टल पर पूरी जानकारी उपलब्ध करानी होगी. निजी अस्पताल में जो मरीज अपने खर्च पर इलाज के लिए तैयार होगें उन्हें उसी अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा बशर्ते वे सभी मानको का पूरा करते हों.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here