अधिकारियों ने राष्ट्रपति से लगाई गुहार, कहा- देश में CAA और NRC के विरोधियों पर हो कार्रवाई

0
446

शुक्रवार को देश के 154 पूर्व न्यायधिशों (Former judges), नौकरशाहों (Bureaucrats) , सैन्य कर्मियों (Military personnel) , कुटनीतिज्ञों (Diplomats) और बुद्धजीवियों (Intellectuals) की ओर से एक प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात की. जिसमें उन्होंने नागरिकता संशोधन कानून (CAA), राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) और नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजनशिप (NPR) को लेकर देश में बन रहे माहौल के संदर्भ में बात की. जहां उन्होंने CAA, NPR और NRC को लेकर माहौल खराब करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की.

राष्ट्रपति से मुलाकात में प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि निहित स्वार्थ के तहत कुछ तत्व आम लोगों के साथ मिलकर दोषपूर्ण अभियान चला रहे हैं. ये लोग भोली-भाली भारतीय जनता को गलत सूचना देकर बहका रहे हैं. खास तौर से युवाओं और अल्पसंख्यकों के एक समूह को भ-ड़काया जा रहा है. सभी भारतीयों के लिए लाए गए सीएए, एनपीआर और एनआरसी को लेकर झूठी और भ्रामक खबरें फैलाई जा रही हैं.

प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति को बताया कि प्रदर्शनकारी केंद्र सरकार की नितियों का विरोध करने का दावा कर रहे हैं. उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें देश के अंदर जो माहौल पहले से बना है उसे बिगाड़ने के लिए तैयार किया जा रहा है. उन्होंने आगे बोलते हुए कहा कि हमें ऐसा लगता है कि माहौल बिगाड़ने के लिए प्रदर्शनकारियों में बाहरी तत्व शामिल हैं. ऐसे में हम भारत सरकार से अनुरोध करते हैं कि इस मामले को गंभीरता से लिया जाए. देश की संवैधानिक संस्थाओं को सुरक्षित रखा जाए और ऐसी ताकतों के खिलाफ शख्त कार्रवाई की जाए.

प्रशांत किशोर ने सुबह-सुबह ही सुशील मोदी पर बोला ह-मला, कहा- देखिए इनकी क्रो-नोलॉजी

राष्ट्रपति से मुलाकात के दौरान प्रतिनिधिमंडल ने केंद्र सरकार की नीतिओं की तारीफ करते हुए कहा कि दुनिया एक परिवार है को पूरे संसार में फैलाने के लिए भी इन्होंने सरकार की प्रशंसा की. प्रतिनिधिमंडल ने देश के अंदर के हालात का जिक्र करते हुए कहा कि लंबे समय से पड़े मामलों को सरकार ने निपटारा किया. देश में तेज गति से विकास में आ रही बाधाओं को दूर किया. अब देश विश्वगुरु बनने की राह पर है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here