पंचायत चुनावः चौथे चरण में लागू होगा बायोमेट्रिक मशीन, फर्जी वोटरो पर होगी कार्रवाई

0
563

बिहार में पंचायत चुनाव जारी है. अब तक तीन चरणों के मतदान हो चुके हैं. चौथे चरण के मतदान की तैयारी जोरो पर हैं. चुनाव में किसी भी तरह की गड़बड़ी को ध्यान में रखते हुए खास कर वोगस वोटिंग को ध्यान में रखते हुए कड़े निर्णय लिए गए हैं. इस बार चुनाव आयोग ने बायोमेट्रिक सत्यापन की व्यवस्था की है. इस व्यवस्था के तहत जो भी व्यक्ति मतदान केंद्र पर मतदान करने जाएगा उसका बायोमेट्रिक सत्यापन किया जाएगा. चौथे चरण में अगर जो भी व्यक्ति बायोमेट्रिक सत्यापन में गलत साबित होगा उस पर कानूनी कार्रवाई होगी और आरोपी को जेल भी जाना पड़ सकता है.

इस पूरे मामले को लेकर बताया जा रहा है कि फर्जी वोटर जो पहले के किसी चरण में मतदान कर चुका है और फिर से मतदान करने पहुंचा है. तो बायोमेट्रिक मशीन की पकड़ में आ जाएगा उसके बाद उसके खिलाफ गैर जमानती धारा में FIR दर्ज कर उसे जेल दिया जाएगा. बताया जा रहा है कि इस मामले में आरोपियों को एक साल की सजा हो सकती है. साथ ही जुर्माना भी देना पड़ सकता है.

चुनाव में किसी भी तरह की गड़बड़ी न हो इसको ध्यान में रखते हुए बायोमेट्रिक मशीन का इस्तेमाल किया जा रहा है. बता दें कि चुनाव से ठीक पहले मशीन में मतदाता का वायोडाटा लोड किया जाता है. जैसे ही मतदाता वोट देने के लिए मशीन के पास पहुंचता है पीठासीन पदाधिकारी के पास मतदाता का पूरा डिटेल पहुंच जाता है. पदाधिकारी को अगर जांच में किसी तरह की गड़बड़ी नजर आती है तो वे मतदाता को पुलिस के अधिन कर सकते हैं. ऐसे में कहा जा रहा है कि इससे पंचायत चुनाव में वोगस वोटिंग पर रोक लगाया जा सकता है.

इधर चौथे चरण का मतदान 20 अक्टूबर को होना है इसमें 36 जिलों के 53 प्रखंडों में मतदान होना है. चुनाव को ध्यान में रखते हुए निर्वाचन आयोग तैयारी में जुट गया है. आयोग ने प्रत्याशियों के साथ ही वाहनों को लेकर दिशा निर्देश जारी कर दिया है. साथ ही साथ कोरोना को लेकर जो गाइडलाइन है उसे पूरी तरह से पालन करने की बात कही गई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here