पप्पू यादव का नीतीश सरकार पर हमला, बाढ़ में सरकार चैन की बंशी बजाने चली जाती है

0
384

बिहार में मानसून सक्रिय होने के बाद से बिहार में लगातार बारिश हो रही है. उत्तर बिहार में लगातार हो रही बारिश से 10 जिले में बाढ़ के हालात है. कई नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. शुक्रवार को जन अधिकार पार्टी के अध्यक्ष पप्पू यादव ने मोतिहारी में बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा किया इस दौरान वे प्रभावित लोगों से मिले उनका हाल जाना.

जाप प्रमुख ने केहा कि जैसे रोम के जलने पर नीरो के बांसुरी बजाने का उदाहरण दिया जाता है वैसे ही बाढ़ के दौरान सरकार चैन की बंशी बजाने चली जाती है. पप्पू यादव ने कहा कि बिहार में बाढ़ एक राजनीतिक आपदा है. इसे नेता और पिछलग्गू ठेकेदार मिलकर लाते हैं. बाढ़ प्रभावित सुगौली में गरीब लोगों के समक्ष भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गई है. आम लोग परेशान हैं, मवेशियों के खाने के लिए चारे की समस्या है, लेकिन नीतिश सरकार तथा उनके नुमाइंदे को इसकी तनिक भी परवाह नहीं है.

पप्पू यादव ने कहा कि मोतिहारी और गोपालगंज के लोगों जिदगी भगवान भरोसे कट रही है. उन्होंने जिला प्रशासन से तत्काल पर्याप्त नावों की व्यवस्था एवं राहत सहायता शुरू कराने की मांग की. पप्पू यादव ने अपने स्तर से प्रभावित लोगों के बीच राहत सहायता का वितरण किया. साथ ही उन्होंने आम जनता से भी विपदा की इस घड़ी में भरपूर मदद करने का आह्वान किया. पप्पू यादव ने चम्पारण के लोगों की सुरक्षा के लिए एनडीआरएफ की टीम मंगवाने और मवेशियों के लिए चारा एवं आम जनता के बीच राहत सहायता वितरण कराने की मांग जिला पदाधिकारी से की.

पप्पू यादव ने कहा कि सुगौली के हालात बाढ़ के चलते बदतर हो गए हैं. गरीब और मध्यम वर्ग के हालात को शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता, यह सरकार गूंगी और बहरी हो गई है. बिहार की जनता घर में रहे तो बाढ़ आती है और बाहर निकले तो कोरोना के कहर से बच नहीं सकती. ऐसे नाजुक मौके पर भी नीतीश सरकार और उसके सहयोगी चुनावों की तैयारी में जुटे हैं जो कि बेहद शर्मनाक स्थिति है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here