पुस्तक प्रेमियों के लिए 8 नवंबर से सजेगा पटना पुस्तक मेला

0
524

पुस्तक प्रेमियों के लिए यह अच्छी खबर है पटना में लगने वाला पटना पुस्तक मेला फिर से गांदी मैदान में लौट आया है. 11 दिवसीय इस मेले की शुरूआत 8 नवंबर को होगी और इसका समापन 18 नवंबर को किया जाएगा. इसके लिए गांधी मैदान का करीब 100000 स्क्वायर फुट जमीन लिया गया है. जिसपर किताबों की दुनिया सजाई जाएगी.
पटना पुस्तक मेले में देश के बड़े प्रकाशक शामिल होंगे. मेले में दिव्यांगों का प्रवेश बिल्कुल निशुल्क होगा. जबकि स्कूली बच्चों को युनिफॉर्म और परिचय पत्र के साथ एंट्री फ्री मिलेगा.

आपको बता दें कि पटना पुस्तक मेले का आयोजन सेंटर फॉर लीडरशिप डेवलपमेंट के द्वारा किया जाता है. पटना पुस्तक मेला आखिरी बार फरवरी 2017 में गांधी मैदान में लगाया गया था. उसके बाद सरकार ने गांधी मैदान देने से मना कर दिया. आयोजन समिति के द्वारा सरकार से बार बार कहा गया था कि आप हमें पुस्तक मेले के गांधी मैदान में जमीन आवंटित करे लेकिन प्रशासन ने कई कारणों का हवाला देते हुए उसे देने से मना कर दिया. इसके बाद इसका आयोजन दिसंबर 2018 में ज्ञान भवन में हुआ जहां गांधी मैदान जैसा रिस्पांस नहीं मिला.

अब, ढाई वर्षों के बाद 2019 में फिर गांधी मैदान में इसका आयोजन किया जा रहा है. पटना पुस्तक मेले के मुख्य प्रवेश द्वार का नाम राजेश कुमार समिति द्वारा रखा गया है. ज्ञात हो पटना पुस्तक मेला की आधारशिला रखने वाले चार संस्थापकों में एक स्तंभ राजेश कुमार का निधन पिछले वर्ष हो गया था. उनकी स्मृति में प्रत्येक वर्ष राजेश कुमार मेमोरियल स्कॉलरशिप दी जाएगी. इसकी राशि आर्थिक रूप से कमजोर मेधावी छात्र को दी जाएगी.


जानकारी मिल रही है कि स्क्वायर शेप में बनने वाले पटना पुस्तक मेले में इस बार 780 स्टॉल लगाए जाएंगे. इनमें राजकमल वाणी, किताबघर, पीएम पब्लिकेशंस, उपकार पुस्तक महल, ओसवाल बुक्स, ओसवाल प्रिंटर्स एंड पब्लिकेशन, राजपाल एंड संस समेत कई प्रमुख प्रकाशक शामिल होंगे. शिक्षा विभाग के उच्च शिक्षा निदेशक ने भी सभी कुलपतियों को चिट्ठी लिखकर कहा है कि इस मेले का लाभ उठाएं. उन्होंने बताया है कि दिव्यांग और अशक्त लोगों के लिए मेले में ई- रिक्शा और व्हील चेयर की व्यवस्था होगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here