पटना हाईकोर्ट ने रचा इतिहास, आप भी जानकर हो जाएंगे खुश

0
619

पटना हाईकोर्ट (Patna High Court ) के ने गुरुवार को इतिहास रच दिया है. यह पल बिहार के इतिहास के लिए गौरव का पल था. यह पल बिहार हाईकोर्ट के लिए गौरव का पल था. दरसल पटना हाईकोर्ट ने मु्क्य न्यायाधीश संजय करोल (Sanjay Karo) की पहल पर कोरोना वायरस (Corona Virus) संक्रमण को लेकर एक प्रयोग किया है. जो कि सफल रहा है. संजय करोल ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से नियमित जमानत मामले की सुनवाई की गई है.

नियमित जमानत मामले की सुनवाई के लिए न्यायाधीश चक्रधारी शरण सिंह (Chakradhari Sharan Singh) की अदालत ने वीडियों कंफ्रेसिंग के माध्यम से तीन वकिलों के समन्वय समिति के अध्यक्ष योगेश चंद्र वर्मा ने मुख्य न्यायाधिश को इस एतिहासिक कदम के लिए बधाई दी है. आपको बता दें कि वकील कोर्ट नं. 19 में बहस कर रहे थे और वहां पर मुख्य न्यायाधिश उपस्थित नहीं थे. कोरोना वायरस को लेकर यह एक बिहार में बहुत बड़ा प्रयोग है. बताया जा रहा है कि यह भारत का सबसे पहला मामला है.

बहस की जब शुरुआत हुई थो सबसे पहले वकील योगेश चंद्र वर्मा ने सबसे पहले वीडियो कांफ्रेंसिग के लिए न्यायाधिश को बधाई दी. उसके बाद से दोनों पक्षों की दलील को सुना गया. इस दौरान कुल मि्लाकर 30 मामलों की सुनवाई हुई है. इस समय मुख्य न्यायाधिश संजय करोल इस वीडियो कांफ्रेंसिग का पूरा दृश्य उन्होंने देखा. आपको बता दें कि अभी प्रयोग के तौर पर यह एक ही कोर्ट में इसकी व्यवस्था की गई है. आपको बता दें कि 11 जजों को 50-50 जमानत मामले देखने की बात कही गई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here