इंजीनियरिंग सिविल सेवा में बिहार के मयंक ने देशभर में प्राप्त किया पाँचवा स्थान

0
642

बिहार की राजधानी पटना (Patna) निवासी मयंक (Mayank) को देशभर में इंजीनियरिंग सिविल सेवा में पाँचवा स्थान प्राप्त हुआ है. संघ लोक सेवा आयोग ने इंजीनियरिंग सिविल सेवा के फाइनल परिणाम की घोषणा का दी है. इस प्रतियोगिता में बिहार के कई छात्रों का चयन हुआ है. कूल 494 छात्रों को इसमें सफलता प्राप्त हुई. पूरे देश में प्रथम स्थान फर्रुखाबाद के कार्तिकेय को प्राप्त हुआ है।

इस बार इस परीक्षा में बिहार का बहुत अच्छा परिणाम सामने आया है. इसके पूर्व इतना अच्छा परिणाम छात्रों का कभी भी नहीं आया. पटना के मयंक ने देशभर में पाँचवा स्थान प्राप्त करके पूरे सूबे का नाम रौशन किया है. मयंक पटना के शिवपुरी क्षेत्र का निवासी है. उन्होंने कहा है कि आशा है कि इंडियन रेलवे में ए ग्रेड का नौकरी प्राप्त हो जायेगा। उन्होंने बताया कि पहला विकल्प इन्हें ही प्राप्त हुआ था.

मयंक ने 2013 में बीटेक (इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग) दुर्गापुर एनआईटी से किया है। उन्हें इसमें 10 में 7.45 ग्रेड प्वाइंट प्राप्त हुआ था. इसके बाद वे जिंदल स्टील प्लांट में तीन वर्षों तक नौकरी की. फिर वर्ष 2017 में वे गेट परीक्षा दिया जिसमें उन्हें 17वीं रैंक मिली। वे दिल्ली में रहकर इंजीनियरिंग सेवा की तैयारी की.

वे शुरू से ही होनहार छात्र रहे हैं. मैट्रिक में उन्हें 85 प्रतिशत अंक प्राप्त हुआ वहीँ बारहवीं में 75 प्रतिशत। उन्होंने तीन सालों तक नौकरी करने के बाद उसे छोड़ दिया और इस परीक्षा की तैयारी में जुट गए।
मदन प्रसाद उनके पिता दानापुर कैंट से रक्षा लेखा विभाग के सेवानिवृत्त वरीय लेखा पदाधिकारी हैं। किरण प्रसाद उनकी माँ हैं, वे गृहणी हैं. उनकी सफलता से परिवार में काफी ख़ुशी का माहौल है.
बता दें कि इस परीक्षा में सिविल इंजीनियरिंग में 233, मैकेनिकल इंजीनियरिंग में 87, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में 86 और इलेक्ट्रॉनिक्स एंड टेली कम्युनिकेशन में 88 प्रतिभागी चयनित हुए हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here