युवाओं ने की पोस्टरबाजी, सवाल बन रहा चुनावी मुद्दा

0
298

विधानसभा नजदीक आ चूका है और ऐसे मौहोल में विपक्ष पार्टी ने राजनीतिक तीर छोड़ा, उसका असर होता अब दिख रहा है. राष्ट्रिय जनता दल ने बिहार सरकार को बेरोजगारी के मुद्दे पर घेराबंदी की थी जिसका असर अब दिखने लगा है.
बेरोजगारी के मुद्दे को लेकर युवा ने मोर्चाबंदी की है और जदयू कार्यालय के आगे पोस्टरबाजी कर डाली है। एक बार फिर से चुनावी मौसम में पोस्टरबाजी शुरू हुई है. राष्ट्रीय छात्र एकता मंच ने जदयू कार्यालय के बाहर पोस्टरबाजी की है और बेरोजगारी के मुद्दे को चुनावी मुद्दा बनाने के लिए धकेल रही है।

भारत युवाओं का देश है और सबसे अधिक जनसँख्या वाले राज्य में बिहार का स्थान है। जाहिर है यहाँ युवाओं की संख्या भी अधिक है लेकिन रोजगार उस हिसाब से नहीं है और लोगों को बाहर का रुख करना पड़ता है.

जदयू के कार्यालय के बाहार छात्र एकता मंच ने 15 सवालों का पोस्टर लगाया है और इस पोस्टर पर सीएम नीतीश कुमार से सवाल की बौछार करते हुए घेरा गया है। 15 सालोँ में नीतीश सरकार से 15 सवाल पूछे गए हैं.

दारोगा पेपर लीक की सीबीआई जाँच नहीं करवाए जाने से लेकर कोई फ़ैक्टरी की स्थापना बिहार में अब तक नहीं होने पर भड़के छात्र मंच ने पोस्टर का सहारा लिया है. बिहार में विशेष राज्य के दर्जे का क्या हुआ। स्कुल-कॉलेजों में लाखों पद शिक्षक के खाली हैं, उन्हें कब भरा जायेगा। मिथिला क्षेत्र का चीनी मील अबतक बंद है. मजदूरों का पलायन नहीं रुका और स्नातक की तीन साल की डिग्री के लिए 5 -6 साल क्यों गवाने पड़ते हैं जैसे सवालों का जवाब सरकार से माँगा जा रहा है.

तेजस्वी ने 9 सितम्बर को राज्य्वासियों से 9 बजे रात में 9 मिनट तक लाइट बंद कर लालटेन जलाकर बेरोजगारी के खिलाफ आंदोलन छेड़ने को कहा था. हालाँकि जदयू के नेता नीरज कुमार बिजली खपत का ब्यौरा देकर साफ कर दिया कि तेजस्वी की बात राज्य के सिर्फ 1 प्रतिशत जनता ने ही मानी है लेकिन अब लगातार उठ रहे इस सन्दर्भ में आवाज इसे हवा दे रही है जो चुनावी मुद्दा आज के दौर का बन सकता है।

तेजस्वी ने अपना साथ देकर सरकार के खिलाफ में और भी आवाजों को बल दे दिया है और अब इसपर जदयू किस तरह प्रतिक्रिया देती है यह गंभीर है क्यूंकि चुनावी समय में पार्टी अपनी प्रतिक्रियाओं से सियासत को प्रभावी करते हैं और चुनाव समय के चलते यह काफी संवेदनशील मुद्दा हो गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here