अशांत हुए प्रशांत क्या जाएंगे हवालात !

0
231

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) को कोर्ट से राहत नहीं मिली है. प्रशांत किशोर पर डाटा चोरी का आरोप लगा था. जिसके बाद उनके उपर प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी. अब प्रशांत किशोर ने जमानत याचिका की अर्जी दी थी जिसे पटना जिला जज की अदालत ने सेसन कोर्ट में सुनवाई के लिए ट्रांसफर कर दिया है.

इससे प्रशांत किशोर को राहत मिलता तो नहीं दिख रहा है. क्योंकि कोर्ट ने इस मामले में प्रशांत किशोर पर चल रहे मामले में किसी तरह की रोक का आदेश नहीं दिया है. आपको बता दें कि शास्वत गौतम ने पाटलीपुत्र थाना में एक आ-पराधिक मु-कदमा दर्ज कराया था जिसमें उन्होंने प्रशांत किशोर के ऊपर डाटा चो-री का आरोप लगाया था. उन्होंने प्राथमिकी में कहा है कि प्रशांत किशोर ने हमारे डाटा की चो-री की है. बिहार की बात से मिलता जुलता बात बिहार की डोमेन नाम बनाकर आइडिया और डाटा चु-राने का आ-रोप लगाया है. उन्होंने इस बाबत पाटलिपुत्र थाने में एक आ-पराधिक के-स भी दर्ज करावाया है.

आपको बता दें कि प्रशांत किशोर ने बात बिहार की नाम से एक कैंपेन की शुरुआत की है. जिसपर शाश्वत गौतम ने डाटा चो-री का मामला दर्ज करवाया है. और धारा 420 के तहत पटना के पाटलिपुत्र थाना में एफआईआर दर्ज करायी है. इसके बाद से प्रशांत किशोर ने कहा है कि शाश्वत सस्ती लोकप्रियता हांसिल करना चाहते हैं इसीलिए इस तरह की बात कर रहे हैं. इसी बात को लेकर उन्होंने जांच एजेंसी से इस पूरे मामले की जांच करने की बात कही है. आपको बता दें कि दिल्ली विधानसभा चुनाव समाप्त होने के बाद प्रशांत किशोर बिहार आए थे और नीतीश कुमार से उन्होंने कई तीखे सवाल पुछे थे और उसके बाद उन्होंने बात बिहार की के नाम से एक कैंपेन की शुरुआत की है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here