पटना विमेंस कॉलेज के इस प्रोफेसर ने किया कंप्यूटर के जटिलताओं को सरल, विदेशी लेखकों को भी दे डाली पटखनी!

0
1132

भइया कुछ भी कह लो बिहार की मिट्टी में दम है, तभी तो इतने सुनहरे इतिहास के साथ इसका वर्तमान और भविष्य भी खूबसूरत है और यह सब मुमकिन हो सका है यहाँ के होनहारों द्वारा. तो आप सब समझ ही गए होंगे की बिहारी न्यूज़ में आज हम बिहारी पहचान की बात करेंगे और इसी कड़ी में हम जानेंगे पटना विमेंस कॉलेज के MCA कोर्स के असिस्टेंट प्रोफेसर के बारे में.

तो दोस्तों आज बात करेंगे हम प्रो. अजीत सिंह के बारे में, जो पटना के मशहूर पटना विमेंस कॉलेज में MCA कोर्स के असिस्टेंट प्रोफेसर है. अजीत सिंह ने कुछ ऐसा कर दिया है जो न ही सिर्फ बिहार में या भारत में बल्कि पूरे विश्व में एक मिसाल कायम कर चूका है. अजीत सिंह ने कंप्यूटर की जटिलताओं को एकदम सरल बना दिया है और यह सब उन्होंने किया है अपने लिखे गए किताबों के माध्यम से.

प्रोफेसर अजीत अबतक 10 किताबें लिख चुके हैं और वह 20 वर्षों से पटना विमेंस कॉलेज की छात्राओं को कंप्यूटर की शिक्षा दे रहे हैं. दरअसल बात अगर कंप्यूटर की शिक्षा की करी जाए तो मार्केट में बस विदेशी लेखकों की किताबें ही ज्यादातर मिलती है, ऐसी किताबें समझनी थोड़ी मुश्किल हो क्यूंकि उसमे समझाने वाले शब्द काफी कठिन हो जाते हैं.

वैसे प्रोफेसर अजीत की भी किताबें इंग्लिश में ही लिखी गयी है लेकिन इसकी भाषा सरल है और इसलिए पूरे भारत भर के स्टूडेंट्स से इन किताबों को अच्छा रिस्पांस मिल रहा है और सबसे जरुरी बात यह की इन किताबों की कीमत भी ज्यादा नहीं है. अजीत कहते हैं की वह बक्सर के रहने वाले हैं और जब उन्होंने खुद कंप्यूटर की पढाई शुरू की थी तो उन्हें खासी मुश्किलें आयी. इसके बाद प्रो. अजीत ने कहा की जब वह कंप्यूटर लैंग्वेजेज के बारे में पढ़ना शुरू कर रहे थे तब उन्हें उससे पहले अंग्रेजी सीखना पड़ा क्यूंकि उन किताबों में जटिल अंग्रेजी के शब्दों को इस्तेमाल किया गया था.

प्रो. अजीत ने इसीलिए कंप्यूटर के जटिल विषयों पर सरल भाषा में किताबों को लिखा ताकि छात्रों को ज्यादा परेशानी न हो. अभी तक प्रो. अजीत ने Parallel Computing, Object Oriented Programming with C++, Operating System, Database Management System, Core Java, Advanced Web Technologies, Unix, Distributed Computing, और Data Structure जैसे जटिल विषयों पर आसान और सरल भाषा में किताबें लिखी हैं. अगर आपको भी यह किताबें चाहिए तो आप Amazon.com के माध्यम से इसे घर बैठे मंगवा सकते है और वह भी सिर्फ इस लिंक पर क्लिक करके www.amazon.com/author/ajitsingh

प्रो. अजीत को कई बार उनके इस उत्कृष्ट कार्यो के लिए सम्मानित भी किया गया है और उन्होंने देश के विभिन्न विश्वविद्यालयों के कंप्यूटर साइंस में स्नातक और स्नातकोत्तर विद्यार्थियों के लिए भी किताबें लिखी है.

तो दोस्तों उम्मीद है आपको यह बिहारी पहचान की स्टोरी पसंद आयी होगी और आप भी प्रोफेसर अजीत के साथ जुड़ना चाहेंगे। और अगर ऐसा है तो फिर देर किस बात की अभी फ़ोन उठाइये और लगाइये इस नंबर को 9234611498 और बात कीजिये उस बिहारी पहचान से जो पड़ा विदेशियों पर भी भारी.

  • 332
  •  
  •  
  •  
  •  
    332
    Shares
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here