राशन कार्ड से हुआ बड़ा खुलासा, लाखों कमाता है पति, पत्नी को बनाया बेटी, जानिए पूरा मामला

0
665

सरकार योजनाएं तो गरीबों के लिए बनाती है लेकिन सरकारी तंत्र के बंदरबांट के कारण इसका लाभ उन लोगों तक नहीं पहुंच पाता है जहां यह पहुंचना चाहिए. ऐसा ही एक मामला सामने आया है जिसमें लाखों की कमाई करने वाला व्यक्ति राशन कार्ड धारक है. पेशे से एक सर्जन को राशन कार्ड मुहैया कराया गया जिसमें बताया गया कि वो गरीबी रेखा से नीचे हैं. इतना ही नहीं, राशन कार्ड में सर्जन को पत्नी विहीन बताया गया है और पत्नी को बेटी बताया दिया गया है. बताया जा रहाहै कि इस कार्ड में यह भी बताया गया है कि इस व्यक्ति के दो पुत्रों में से एक की आमदनी प्रतिमाह 23000 है जबकि दूसरे पुत्र की आमदनी को शुन्य बताया गया है.

वर्तमान में केंद्र सरकार और राज्य सरकार देश में राशन कार्ड को लेकर का लेकर काफी सिरियस दिख रही है. लेकिन राशन कार्ड के दौरान हो रहे इस तरह के खुलासे से यह पता चलता है कि राशनकार्ड बनवाने में कितनी धांधली हुई है. बिहार के झाझा में एक शल्य चिकित्सक ड़ॉ अजय कुमार के नाम से राशन कार्ड बना है. बताया जा रहा है कि उनके पास झाझा बाजार में तीन मंजिला मकान है. उनकी आमदनी प्रतिमाह दो लाख रुपये बताई जा रही है. इसके बाद भी उन्हें राशन कार्ड मुहैया कराया गया है.

इतना ही नहीं ड़ॉ अजय कुमार के नाम जो राशन कार्ड बना है उसमें उनकी पत्नी को नहीं दिखाया गया है जो उनकी पत्नी है उनको उनकी बेटी बताया गया है. उनकी पत्नी का नाम नैना कुमारी है. जो कि अभी जीवित हैं. राशन कार्ड को लेकर कागजात जारी किए गए हैं उसमें ड़ॉ अजय कुमार तथाकथित उनकी पुत्री नैना कुमारी पुत्र उत्कर्ष कुमार और अमोल कुमार को दर्शाया गया है.

इस पूरेमामले को लेकर कई ग्रामीणों ने बताया है कि हम कार्यालय का चक्कर काटते काटते थक गए लेकिन हमलोगों को राशन कार्ड आज भी मुहैया नहीं हो पाया है. इसीलिए आज तक हमलोगों को आज तक एक छटाक अनाज नहीं मिल पा रहा है. और न ही सरकार की ओर से आने वाली अन्य सुविधायों का लाभ मिल पा रहा है.

इस पूरे मामले को लेकर नगर पंचायत कार्यपालक पदाधिकारी रामाशीष शरण तिवारी ने बताया कि सड़क दुर्घटना में घायल होने के कारण मैं छुट्टी पर था और हमें इसकी कोई जानकारी नहीं है. मेरी अनुपस्थिति में कार्यपालक पदाधिकारी जमुई डॉ जनार्दन वर्मा प्रभार में थे. इसकी जांच-पड़ताल की जायेगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here