बिहार में 52 बीएड कॉलेजों की मान्यता रद्द, इन कॉलेजों पर गिर सकती है गाज

0
1865

एनसीटीई (NCTI) के एक फैसले के बाद से बिहार में 52 बीएड कॉलेजों (B.Ed. Colleges) की मान्यता पर त-लवार लटकता नजर आ रहा है. एनसीटीई ने राज्य के सरकारी और निजी बीएड कॉलेजों की मान्यता बहाल रखने के लिए मानकों पर दो चरण में आकलन करने की बात कही है. इधर पटना यूनिवरर्सिटी (Patna University) के स्नातकोत्तर शिक्षा विभाग समेत राज्य के 5 बीएड कॉलेजों की मान्यता रद्द की जा चुकी है. 21 कॉलेजों पर शो-कॉज नोटिस भेजा जा चुका है. अगर फरवरी में यहां से संतोषजनक जवाब नहीं मिलते हैं तो कॉलेजों की मान्यता रद्द हो सकती है.

एनसीटीई के अधिकारियों की माने तो अबतक जांच में 52 से अधिक बीएड और डीएलएड (DlEd) कॉलेज मानकों के अनुरूप नहीं मिले हैं. इन कॉलेजों को भी पहले भी सूची उपलब्ध कराने की बात कही गई थी. जिसमें ढांचागत सुविधा, शिक्षकों की सूची और जरूरी कागजात की मांग की गई थी. एनसीटीई ने कहा है कि बिहार (Bihar), झाऱखंड (Jharkahand), पश्चिम बंगाल (West Bengal), ओडिशा (Odisha) सहित पूर्वोत्तर के राज्यों की बीएड कॉलेजों की मान्यता के लिए बैठक जल्द किया जाएगा.

एनसीईटी ने कहा है कि बीएड कॉलेजों की मान्यता निरस्त होने में ढांचागत सुविधा, योग्य फैकल्टी तथा मानक के अनुरूप प्राचार्य का अभाव सबसे ज्यादा है. इसके अतिरिक्त बिल्डिंग प्लान, पूरा होने का सर्टिफिकेट, बिल्डिंग सेफ्टी प्रमाण-पत्र, संस्थान की वेबसाइट एनसीटीई रेगुलेशन 2014 के अनुसार अपग्रेड नहीं होना, जमीन व भवन का अग्रीमेंट या खरीद के कागजात, शपथ पत्र, फंड जमा करने की मूल रसीद आदि प्रमुख हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here