एनडीए के फार्मूला पर चला राजद, बता रही अपने शासनकाल की उपलब्धियाँ

0
25

चुनावी समय में राजनितिक दल के तरफ एक ओर सीटों को लेकर हल्ला मचा हुआ है तो वहीँ दूसरी ओर अपने अपने शासनकाल को लेकर जनता के सामने रखा जा रहा है. जहां जदयू अपने कामों को लालू यादव के समय से तुलना कर रही है और लालटेन से बिजली की सफर को बता रही है वहीँ राजद ने अब हमले की नीति को किनारा करते हुए विकास की सीढ़ी का दमन थाम कर राजनीति की दिशा के रुख को थोड़ा बदल दिया है.

राजद ने अपन ऑफिसियल ट्विटर अकाउंट से एक ट्वीट किया है जिसमें बिहार में कृषि की व्यवस्था और उसके उत्पादन के रिकॉर्ड को जनता के सामने रखा है और कांग्रेस के शासनकाल से अपनी तुलना की है। एक तरफ जहां से उस समय कांग्रेस के शासनकाल को कहीं न कहीं कम आंक रहे हैं वहीँ दूसरी तरफ सीट बंटवारे को लेकर अबतक महागठबंधन में कुछ फाइनल न हो सका है। हालाँकि कांग्रेस के शासनकाल पर तो अभी अभी नीतीश कुमार ने भी निशाना साधा था और कहा था कोसी महासेतु को लेकर कि यह अब जाकर नरेंद्र मोदी के समय में पूरा हुआ है।

राजद ने कहा है कि लालू ने बिहार को आत्मनिर्भर बनाया था। 1993-94 में प्रथम बार 175 लाख टन खाद्यान्न का उत्पादन हुआ था जो पहली बार एक रिकॉर्ड बना था. पहली बार धान और गेंहू के बीच के मामले में प्रदेश आत्मनिर्भर बना था. राजद ने बताया कि 90 से पहले सिर्फ दो बीज प्रोसेसिंग प्लांट था इसे बढ़ाकर 14 किया गया और यह बड़ी उपलब्धि रही थी.

राजद ने चुनावी समय को देखते हुए युवाओं के बाद किसानों का मुद्दा उठाया है और इसके साथ ही साथ अपने शासनकाल की उपलब्धियां। राजद हर प्रयास कर रही है।
जनता फिलहाल सब सुन और देख रही है लेकिन वह किस पर भरोसा करेगी, यह उनका दिया वोट ही बताएगा। जो सरकार बनाएगी और किसे सत्ता की कुर्सी तक पहुंचाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here