जोकीहाट विधानसभा उपचुनाव: टिकट की जंग में चाचा ने भतीजे को दी पटखनी

जोकीहाट विधानसभा उपचुनाव के लिए राष्ट्रीय जनता दल ने अपने उम्मीदवार के नाम का ऐलान कर दिया है. मरहूम नेता तस्लीमुद्दीन के बेटे और अररिया सांसद सरफराज आलम के छोटे भाई शाहनवाज आलम को उम्मीदवार बनाने की घोषणा राजद ने की है. इसी के साथ हीं राजद और तस्लीमुद्दीन के परिवार में चले आ रहे टिकट के जंग का पटाक्षेप हो गया है.

अब बारी है जदयू प्रत्याशी की घोषणा की. मालूम हो कि इसके पहले यह सीट जदयू के पास हीं थीं. सरफराज आलम इस सीट से जदयू के टिकट पर विधायक निर्वाचित हुए थें. बाद में उन्होंने जदयू से इस्तीफा देकर राजद का दामन थामा और लोकसभा चुनाव लड़कर जीत हासिल कर लिया.

जदयू से यहां पूर्व विधायक मंजर आलम और पूर्व जिलाध्यक्ष नौशाद आलम टिकट की रेस में सबसे आगे बताए जाते हैं. जल्द हीं यहां उम्मीदवारों के नाम का ऐलान होने की उम्मीद है.

क्या है कार्यक्रम
इस सीट पर नामांकन का कार्यक्रम जारी है. 10 मई को नामांकन की अंतिम तिथि है. 14 मई तक प्रत्याशी नाम वापस ले सकते हैं. 28 मई को वोटिंग और 31 मई को मतगणना का कार्यक्रम है.

क्या कहता है पुराना गणित

2015 में हुए चुनाव में इस सीट पर जदयू ने 54 हजार वोटों के भारी अंतर से विजय पताका लहराया था. 2010 में, 2005 नवंबर में और 2005 फरवरी में भी जदयू हीं इस सीट से लगातार जीतता आया है. पिछले 10 सालों से इस सीट पर राजद मुख्य लड़ाई से हीं बाहर रहा है.

2015 और 2010 में यहां जदयू की लड़ाई निर्दलीय प्रत्याशी से रही थी. 2015 में राजद ने जदयू को समर्थन दिया था. 2010 में यहां राजद प्रत्याशी अरुन यादव की जमानत तक जब्त हो गई थी.

जदयू के वर्चस्व वाली इस सीट पर तेजस्वी की असली परीक्षा होगी क्योंकि इसके पूर्व के चुनाव में राजद यहां से जमानत जब्त करा चुका है और उसके प्रत्याशी यहां चौथे नंबर पर रहे थें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here