राष्ट्रीय जनता दल से कौन-कौन जाएगा राज्यसभा ?

0
500

बिहार में राज्यसभा की 05 सीटों के लिए चुनाव होना है. इनमें से 03 सीटें एनडीए को और बाकी 02 सीटें महागठबंधन को जाएगा.

महागठबंधन यानी सिर्फ राष्ट्रीय जनता दल. लोकसभा चुनाव के लिए हुए सीट शेयरिंग को सार्वजनिक करने के लिए राजधानी पटना के होटल मौर्य में महागठबंधन की एक संयुक्त प्रेस काॅफ्रेंस हुई थी जिसमें यह कहा गया था कि राजद अपनी ओर से राज्यसभा की एक सीट कांग्रेस को देगी लेकिन अब राजद इस पर किसी भी तरह की कोई सुगबुगाहट नहीं दिखा रहा है.

माना जा रहा है कि राजनीति में वायदे होते रहते हैं, वायदे पूरे करने जरुरी नहीं होते हैं. ऐसे में में यह माना जा रहा है कि इन दोनों सीटों पर राजद के ही उम्मीदवार ही राज्यसभा में जाएंगे.

बाकी दूसरे दलों की तरह राजद में भी राज्यसभा जाने की होड़ मची हुई है. पार्टी के वरिष्ठ से लेकर नए नेता तक लाॅबिंग में जुटे हुए हैं. कई सालों से लालू प्रसाद यादव से जुड़े हुए प्रेमचंद्र गुप्ता भी राज्यसभा की रेस में तेजी से दौड़ रहे हैं. राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रो रघुवंश प्रसाद सिंह भी राज्यसभा के लिए मजबूती से दावेदारी जता रहे हैं.

एक नई चर्चा बिहार के राजनीतिक गलियारे में चल रही है कि लालू प्रसाद यादव के कन्हैया यानी उनके पुत्र तेजप्रताप यादव भी राज्यसभा जाने के इच्छुक हैं. एक हिंदी अखबार की खबर के मुताबिक तेजप्रताप यादव आगामी विधानसभा चुनाव लड़ने को लेकर सक्रिय नहीं है.
तेजप्रताप की इच्छा अब दिल्ली यानी उच्च सदन जाने की है. कहा तो यह भी जा रहा है कि तेजप्रताप ने अपनी यह दावेदारी पार्टी के समक्ष पेश कर दी है. अब यह लालू प्रसाद यादव और तेजस्वी यादव के लिए मुश्किल भरा मामला होता जा रहा है क्योंकि विधानसभा के चुनाव नजदीक है और पार्टी कोई रिस्क लेना नहीं चाहेगी.

Image result for tejparatap

लालू प्रसाद यादव की बड़ी बेटी मीसा भारती पहले से राज्यसभा में हैं, ऐसे में अगर वो तेजप्रताप की मांग मान लेते हैं तो पार्टी का परिवारवाद का आरोप और गहरा होता जाएगा.

Image result for hina shshab

वहीं सोशल मीडिया पर राजद समर्थक सीवान के पूर्व सांसद शहाबुद्दीन की पत्नी हिना शहाब को भी राज्यसभा भेजे जाने की मांग लगातार कर रहे हैं. पिछले लोकसभा चुनाव में राजद ने एक भी पासवान को एक भी टिकट नहीं दिया था, जिसकी काफी आलोचना हुई थी. बिहार में पासवान वोटरों का जिस तरह से लोजपा से मोहभंग हुआ था, राजद इसी वजह से उसका लाभ नहीं ले सकी थी. ऐसे में संभव है कि इन दो सीटों में से एक पर किसी दलित नेता की लाॅटरी लग जाए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here