नीतीश कुमार के लिए संन्यासी जीवन बेहतर विकल्प

बिहार सरकार ने अपनी प्रशासिनक व्यवस्था में सुधार करने का फैसला लिया है, जिसके तहत जो भी सरकारी कर्मचारी अनफिट हो चुके हैं या जिनके कार्यरत रहने से कोई लाभ नहीं है उन्हें रिटायर किया जाएगा. ये खबर आते ही राजनीतिक बयानबाजी तेज हो गई है. राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए कहा कि अनफिट लोगों के रिटायर करने की प्रक्रिया की शुरुआत नीतीश कुमार को स्वयं से ही करनी चाहिए. उपेंद्र कुशवाहा का इशारा बिहार में बढ़ती अराजकता और कुव्यवस्था पर था.

संन्यासी जीवन बेहतर विकल्प

उपेंद्र कुशवाहा ने ट्वीटर पर लिखा कि नीतीश कुमार ने पिछले 15 सालों में बिहार को रसातल में पहुंचा दिया है. नीतीश कुमार भी अपने दायित्वों का निर्वहन करने में अनफिट हो चुके हैं, ऐसे में अक्षम लोगों को रिटायर करने की प्रक्रिया की शुरुआत उन्हीं से क्यों नहीं होनी चाहिए. कुशवाहा ने नीतीश कुमार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि अगर नीतीश कुमार ईमानदारी से आत्ममंथन करेंगे तो पाएंगे कि उनके लिए संन्यासी जीवन ही सर्वोत्तम विकल्प होगा.

यूजर्स ने दिए दिलचस्प जवाब

उपेंद्र कुशवाहा के इस ट्वीट पर एक यूजर अक्षत कृष्णा ने प्रतिक्रिया देते हुए लिखा है कि सरकार ने फरमान जारी किया है कि 50 साल से ज्यादा उम्र के कर्मचारियों को कार्यकुशलता के आधार पर जबरन रिटायर किया जाएगा तो आओ सभी भारतवासी आज प्रण करें की अब पंचायत से लेकर पार्लियामेंट तक ऐसे किसी नेता को नहीं चुनेंगे जो 50 वर्ष से ज्यादा की उम्र का होगा. वहीं ब्रजेंद्र कुमार पप्पू लिखते हैं कि सत्ता बौरा गई है. इसके लिए जिम्मेदार को क्यों नहीं सत्ता से ही बेदखल कर दिया जाए !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here