SBI के ग्राहकों के लिए खुशखबरी ! 1 अक्टूबर से ये चीज़ें हो जाएंगी मुफ्त

0
569

देश का सबसे बड़े सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक (State Bank of India) अपने बहुत सारे सेवा शुल्क में परिवर्तन करने की तैयारी कर रहा है। SBI के ग्राहकों को न्यूनतम बैलेंस के परेशानी से मुक्त करने की योजना बना रहा है। इस योजना के तहत बैंक खाते में मासिक औसत बैलेंस (Monthly Average Balance) बनाये नहीं रख पाने पर शुल्क में तकरीबन 80 प्रतिशत तक की कमी आ जाएगी। इसके अलावा NEFT और RTGS जैसे digital mode के जरिए लेन-देन भी सस्ता करने का योजना बना रहा है। जानकारी के मुताबिक भारतीय स्टेट बैंक के नए सेवा शुल्क 1 अक्टूबर, 2019 से लागू हो सकते हैं।

न्यूनतम मासिक औसत बैलेंस बनाए नहीं रख पाने पर दंड
  • मेट्रो शहरों, पूरी तरह शहरी क्षेत्रों में फिलहाल भारतीय स्टेट बैंक शाखा में बैंक खाता खुलवाने वाले व्यक्तियों को 5000 रुपये तथा 3000 रुपये तक न्यूनतम मासिक औसत बैलेंस रखना आवश्यक होता है।
  • 1 अक्टूबर से यह बैलेंस कम होकर दोनों क्षेत्रों के लिए 3000 रुपये हो सकता है। किसी के खाते का न्यूनतम बैलेंस 3000 रुपये से 75 प्रतिशत से कम हुआ तो पेनल्टी 15 रुपये+ GST लग सकता है, जो कि अभी 80 रुपये+ GST है।
NEFT/ RTGS charge
  • भारतीय स्टेट बैंक digital mode से RTGS और NEFT के जरिए लेन-देन को charge free कर चुका है, जो 1 जुलाई से अमल में आ गया है। वहीं भारतीय स्टेट बैंक के शाखा में NEFT/ RTGS के जरिए लेन-देन की लागत भी कम हो गई है।
  • 1 अक्टूबर से बैंक के शाखा में NEFT/ RTGS से लेन-देन पर शुल्क इस प्रकार होंगे। 10,000\ रुपये के लेन-देन पर कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा।
  • भारतीय स्टेट बैंक के ATM शुल्क भी 1 अक्टूबर से परिवर्तित सकते हैं। ग्राहक मेट्रो शहरों के SBI ATM में अधिकतम 10 बार free debit transaction कर सकेंगे। वहीं दूसरे स्थानों के ATM से ग्राहक अधिकतम 12 बार free debit transaction कर सकेंगे।

चेकबुक का इतना charge लगेगा

बचत बैंक खाता रखने वाले खाता-धारकों के लिए एक वित्त वर्ष में पहले 10 चेक मुफ्त होंगे। इसके बाद 10 चेक वाली चेकबुक 40 रुपये + GST और 25 चेक वाली चेकबुक के लिए 75 रुपये+ GST लिया जाएगा। वरिष्ठ नागरिक एवं वेतन पैकेज खाते के लिए चेकबुक मुफ्त होंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here