कोरोना वैक्सीन ट्रायल का दूसरा चरण शुरू, पटना एम्स में युवक को दिया गया दूसरा डोज

0
205

कोरोना का प्रकोप भारत समेत पूरे देश में फैला हुआ है. इसकी दवा बनाने के लिए विश्व की आठ से दस कंपनिया आगे आई है. पटना एम्स में कोरोना वैक्सीन के ट्रायल के तहत एक 30 वर्षिय युवक को दूसरा डोज दिया गया है. इसको लेकर पटना एम्स के अधीक्षक सीएम सिंह ने बताया कि युवक को 0.5 एमएल वैक्सीन का डोज दिया गया है. यह वैक्सीन का दूसरा डोज चल रहा है.

पटना एम्स में जिन लोगों को कोरोना का टीका दिया जा चुका है. उनकी एंटीबॉडी की जांच छह अगस्त से की जाएगी. एम्स में वैक्सीन के ट्रायल से जुड़े एक वरीय चिकित्सक ने बताया कि आठ जुलाई को पहली बार छह लोगों को कोरोना वैक्सीन दिया गया था. चार दिनों में कुल 30 से ज्यादा लोगों को इसका पहला डोज दिया जा चुका है. पहले 14 दिनों में इनमें से किसी भी व्यक्ति पर इसका कोई साइड इफेक्ट नही हुआ है. सभी लोग सामान्य जीवन जी रहे हैं.

डॉक्टर ने यह भी बताया है कि वैक्सीन की सफलता और असफलता पूरी तरह से मानव शरीर में विकसित एंटीबॉडी पर ही आधारित है. पहली डोज के 28वें दिन से उनके शरीर में बननेवाले एंटीबॉडी का अध्ययन किया जाएगा. इसके लिए संस्थान के अधीक्षक के नेतृत्व में विशेष तैयारी की गई है. अगर लोगों में एंटीबॉडी बेहतर रहा तो वैक्सीन को सफल माना जा सकता है.

भारत बायोटेक और आईसीएमआर ने देश में विकसित कोवैक्स वैक्सीन को कोरोना से बचाव के लिए तैयार किया है. इस वैक्सीन को आईसीएमआर ने शीर्ष वरीयता के साथ 13 संस्थानों को इसके ट्रायल के लिए निर्देश दिया था. निर्देशानुसार एम्स पटना में भी इसका ट्रायल चल रहा है. हल्के और मध्यम कोरोना मरीजों के लिए कई कंपनियोंने टैवलेट निकाले हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here