भक्ति पर भारी पड़ा कोरोनाः वाणावर के सिद्धनाथ मंदिर में नहीं होगा श्रावणी मेले का आयोजन

0
389

कुछ ही दिनों के बाद हिंदु धर्म का पवित्र महिना सावन शुरू हो जाएगा. इस पूरे महिने को लोग भक्ति भाव के साथ मनाते हैं. लेकिन इस बार कोरोना काल में भगवान भोले नाथ के भक्त भगवान भोले नाथ से दर्शन नहीं कर पाएंगे. हर वर्ष लगने वाला श्रावणी मेला इस बार नहीं लगेगा. विश्वव्यापी इस महामारी के कारण मखदुमपुर प्रखंड क्षेत्र के बराबर पहाड़ी पर स्थित बाबा सिद्धेश्वर नाथ के मंदिर पर प्रति वर्ष सावन महीने में लगने वाले श्रावणी मेला इस वर्ष स्थगित हो गया है. इस मेले को मंदिर प्रबंध समिति और जिला प्रशासन द्वारा पाताल गंगा स्थित रेस्ट हाउस में बैठक कर स्थगित करने का फैसला लिया गया है.

जहानाबाद जिले के बराबर पहाड़ी पर बाबा सिद्धेश्वर नाथ का मंदिर है, जहां हर वर्ष सावन माह में लाखों की तादाद में बाबा सिद्धेश्वर नाथ को जल चढ़ाने के लिए भक्तों का हुजूम उमड़ता है. विभिन्न रास्तो से बराबर पहाड़ की चोटी पर बोल बम का जयघोष करती हुई भक्तों की भीड़ यहां पहुंचती है. यहां आने वाले भक्त तकरीबन 3 से 4 किलोमीटर की चढ़ाई चढ़कर भक्त बाबा को जल अर्पित करती है. ऐसे में लंबी दूरी और चढ़ाई को देखते हुए मंदिर प्रबंध समिति और स्थानीय प्रशासन द्वारा कोरोना को लेकर सोशल डिस्टेंसिनग के पालन न करने और संक्रमण के खतरे को देखते हुए इस तरह का निर्णय लिया है.

इस पूरे मामले को लेकर मंदिर प्रबंध समिति के प्रतिनिधि ने भानु प्रताप सिंह ने बताया कि पूरे सावन माह में लाखों की तादात में भक्त इस मंदिर में जल चढ़ाने आते हैं. वहीं प्रत्येक सोमवार को जल चढ़ाने वाले भक्तों की संख्या में काफी वृद्धि हो जाती है. ऐसे में मंदिर प्रबंध समिति द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग के पालन कराने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा जिसको लेकर इस वर्ष श्रावणी मेले का आयोजन रद्द कर दिया गया है. उन्होंने अधिकारियों से पूरे सावन माह में मंदिर के समीप सुरक्षाबलों की तैनाती की मांग की है ताकि पहाड़ों के रास्ते मंदिर तक पहुंचने वाले तीनों रास्तों को सील किया जा सके.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here