तो क्या लालू इन कारणों से नहीं आ रहे बिहार ?

0
312

बिहार में दो सीटों पर होने वाले विधानसभा उपचुनाव को लेकर सियासत तेज हो गई है. दशहरा समाप्त होने के बाद एक बार फिर से उपचुनाव को लेकर सियासत तेज हो गई है. 30 अक्टूबर को विधानसभा सीट तारापुर और कुशेश्वरस्थान में मतदान होना है. पिछले दिनों एक खबर सामने आई है जिसमें यह बताया जा रहा है कि राजद सुप्रीमों लालू यादव के बिहार आने की खबर सामने आई थी, जिसमें यह भी कहा गया था कि वे विधानसभा उपचुनाव में चुनाव प्रचार भी करेंगे. लेकिन अचानक से जब राबड़ी देवी दिल्ली जाने लगी तो मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि लालू यादव की तबीयत ठीक नहीं है और वह बिहार फिलहाल नहीं आएँगे. इससे बाद से लालू यादव के चुनावी यात्रा पर विराम लग गया.

राजनीतिक गलियारों में लालू यादव के बिहार नहीं आने के कई मायने मतलब निकाले जा रहे हैं. सबसे पहले तो यह कहा जा रहा है कि क्या लालू यादव का चुनावी दौरा जानबूझकर स्थगित किया जा रहा है. हालांकि उनके पिछले कुछ दिनों की तस्वीरों को देखें तो उसमें वे स्वस्थय दिख रहें हैं! स्वास्थ्य को लेकर कोई ज्यादा परेशानी तो नहीं दिख रही है लेकिन पटना आने के बाद परिवार में रार और उसके बाद महागठबंधन में राजद कांग्रेस के अलग होने के बाद परेशानी बढ़ी है! ऐसे में लालू यादव फिलहाल ज्यादा परेशानी झेलना नहीं चाह रहे होंगे. एक दूसरी बात जो मीडिया में तेजी से फैल रही है उसमें यह कहा जा रहा है कि पार्टी में तेजप्रताप के विरोध के मुखर होते स्वर को लेकर लालू प्रसाद ने पटना आने से मना कर दिया. ऐसे लोगों का मानना है कि लालू प्रसाद को उम्मीद थी कि पटना पहुंचकर राबड़ी देवी सबकुछ ठीक कर लेंगी. यही कारण है कि राबड़ी देवी पटना पहुंचते ही सबसे पहले तेजप्रताप के आवास पर गईं. लेकिन तेज उनके आने से पहले ही आवास छोड़कर निकल गये. हालांकि बाद में तेज प्रताप ने बताया कि मां से उनकी बात हो चुकी है.

कहा तो यह भी जा रहा है कि अगर लालू यादव बिहार आते हैं तो तेजप्रताप और भी आक्रामक हो सकते हैं जिससे कि विरोधियों को ज्यादा फायदा हो सकता है. आपको बता दें कि तेजप्रताप ने कई बार यह कहा है कि पिताजी के आने के बाद सबकुछ साफ हो जाएगा. ऐसे में लालू यादव फिलहाल ज्यादा परेशानी उठाना नहीं चाह रहे हैं. एक और मुद्दा जो मीडिया मे चल रहा है जिसमें यह कहा जा रहा है कि अगर लालू यादव चुनाव प्रचार में आते हैं तो जंगल राज का जिक्र जदयू की तरफ से किया जा सकता है. जोकि पिछले कई चुनावों में जदयू ने किया भी है.

लालू यादव के बिहार आने को लेकर मीडिया से लेकर राजद नेता और कार्यकर्ता अपने अपने हिसाब से तर्क दे रहे हैं. लेकिन किसी को यह पता नहीं है कि लालू यादव बिहार विधानसभा उपचुनाव में आएँगे या नहीं. हालांकि एनडीए के नेता यह कह रहे हैं कि लालू यादव के बिहार आने से एनडिए को फायदा होगा. इसके पीछे वे अपना तर्क देते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here