सेल्फ स्टडी से 10वीं में 93.2% अंक हासिल कर, विद्द्यार्थियों के लिए बने प्रेरणास्रोत

0
325

कल महाराष्ट्र में सीनियर सेकेंडरी सर्टिफिकेट (SSC) कक्षा 10वीं का परिणाम महाराष्ट्र स्टेट बोर्ड (MSBSHSE) ने घोषित किया। इस परीक्षा में 77.10% स्टूडेंट्स ने सफलता प्राप्त की. इस परीक्षा में अपने मेहनत के दम पर कई ऐसे भी छात्र हैं जिन्होंने अच्छे अंक हासिल किये।

इस परीक्षा में राज महिंद्रा जायसवाल एक ऐसा विद्द्यार्थी है जिसने परीक्षा में 93.2 प्रतिशत अंक हासिल करके टॉप हुआ है. वह गुरु गोविन्द नगर हिंदी मीडियम स्कूल का छात्र है. आगे वह चार्टर्ड अकाउंटेंट बनना चाहता है.

इतना अंक हासिल करने के पीछे उनकी मेहनत और हिम्मत है. वह काफी गरीब परिवार से है। उसके पिता एक दर्जी हैं। पैसों के अभाव के वजह से वह ट्यूशन नहीं ले सकता था। लेकिन उसके अंदर शिक्षा हासिल करने का जज्बा था. अपने जज्बे के बदौलत उसने खुद से ही पढाई करनी शुरू की. उसकी मेहनत रंग लायी और वह टॉप हो गया.

उन्होंने बताया है कि भले ही उनके पास पैसे नहीं थे मगर मेहनत करना उनके बस में था। उन्होंने कड़ी से कड़ी मेहनत की और ट्यूशन नहीं लिया मगर जो सवाल क्लियर नहीं हो पाते उसे वह शिक्षक से पूछ लिया करता था. वे पढ़ाई के साथ ही साथ खेल में भी बेहतर हैं। उनके पैरेंट्स कारखाने में दर्जी का कार्य करते हैं.

राज के अलावा उनके दो बहनें और एक भाई भी है। सभी बखूबी अपनी जिम्मेदारी निभाते हैं। राज भी हमेशा अपने कर्तव्य के प्रति जागरूक रहता। कभी भी उसे पढाई को लेकर बोलने की जरुरत नहीं थी.
राज आज के बच्चों के लिए प्रेरणा है। उन्होंने अपने हिम्मत के दम पर अपनी पढाई को जारी रखा और आगे भी अपने सेल्फ स्टडी के दम पर जरूर अपनी सफलता को हासिल करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here